Home ALL POST Narendra modi Biography | नरेंद्र मोदी की जीवनी

Narendra modi Biography | नरेंद्र मोदी की जीवनी

133
0
Narendra modi Biography

Narendra modi Biography | नरेंद्र मोदी की जीवनी

Narendra modi Biography

Narendra modi Biography

पूरा नाम  – नरेन्द्र दामोदरदास मोदी
जन्म       – 17 सितम्बर 1950
जन्मस्थान – वडनगर, जि. मेहसाना (गुजरात).
पिता       – दामोदरदास मूलचंद मोदी
माता      – हीराबेन मोदी
विवाह     – जशोदाबेन के साथ

नरेंद्र मोदी की जीवनी 

नरेन्द्र मोदी भारत के प्रधानमन्त्री के रूप में आज के समय में सबसे ज्यादा चर्चित व्यक्ति है कभी चाय बेचकर गुजारा करने वाले आज भारत का बच्चा बच्चा नरेंद्र मोदी के नाम से अपरिचित नही है

नरेन्द्र मोदी भारत देश के पहले ऐसे प्रधानमन्त्री है जिनका जन्म भारत के आजाद होने के बाद हुआ है नरेन्द्र मोदी का जन्म 17 सितम्बर 1950 को गुजरात राज्य के मेहसाणा जिले के वडनगर ग्राम में हुआ.

इनके पिता दामोदर दास मूलचंद चाय की छोटी सी दुकान चलाते थे जिस कारण से स्कूल की पढाई के बाद नरेन्द्र मोदी अपने पिता के कार्यो में हाथ बटाते थे और ग्राहकों को चाय बेचा करते थे .

इनकी दुकान रेलवे स्टेशन के पास थी तो जब ट्रेन आती थी तब नरेंद्र मोदी रेल के डिब्बो में भी चाय बेचते थे इनके परिवार की आर्थिक स्थिति बहुत ख़राब थी जिसके चलते इनकी माता हीराबेन घर की आर्थिक सुधारने के लिए दुसरो के घर जाकर बर्तन साफ करती थी

Narendra modi Biography | नरेंद्र मोदी की जीवनी 

इनके पिता की 6 संताने है जिनमे नरेन्द्र मोदी तीसरे स्थान पर आते है, वडनगर के इनके प्राइमरी स्कूल मास्टर के अनुसार बचपन में नरेंद्र मोदी एक औसत श्रेणी के छात्र थे, लेकिन स्कूल वाद- विवाद प्रतियोगिता, नाटक और भाषण देने सर्वश्रेष्ठ और अव्वल दर्जे के थे.

जब ये स्कूल में भाषण देते थे तो इनके भाषण सुनने वाला हर कोई मोहित हो जाता था, बचपन से नरेंद्र मोदी को देशप्रेम की भावना कूटकूट भरी हुई थी जिसके चलते देशभक्ति के प्रति प्रेम की भावना इनके भाषणों में देखने को मिलती थी

और फिर आगे की स्नातक की पढाई राजनीती विज्ञान से किया, और फिर मात्र 13 वर्ष की आयु में इनकी शादी जशोदाबेन के साथ कर दिया गया लेकिन बचपन से कुछ अलग करने की चाहत रखने वाले नरेंद्र मोदी को शादी के विवाह बंधन में कोई रूचि नही थी.

इसके बाद तो किसी को पता भी नही था की Narendra Modi  की शादी भी हुई है लेकिन जब इसका जिक्र 2014 के लोकसभा चुनाव में किया  तो सम्पूर्ण मीडिया जगत में एक भूचाल सा आ गया था.

लेकिन खुद नरेंद्र मोदी का मानना है की देश की सेवा के लिए अपने परिवार को बीच में नही लाना चाहते है सो इसका जिक्र वे पहले कभी खुले मंच पर नही करते है लेकिन संविधान की शपथ पत्र में निजी जानकारी देना अनिवार्य है इसलिए वे शादी की बात छुपा भी नही सकते है

Narendra modi Biography | नरेंद्र मोदी की जीवनी 

और Narendra Modi की देशभक्ति की भावना उनके बचपन से ही देखने को मिलती है सन 1965 में भारत पाक युद्ध में भारतीय जवानों की खूब सेवा किया करते थे

परन्तु 17 वर्ष की आयु के घर की आर्थिक स्थिति बिगड़ने के कारण नरेंद्र मोदी जी अपना घर छोड़कर चले गये इसके बारे में किसी को भी नही पता था की आखिर नरेंद्र मोदी कहा गये है.

घर छोड़ने के उपरांत नरेंद्र मोदी उत्तर पूर्व भारत की ओर रुख किया जहा वे स्वामी विवेकानंद के विचारो से अत्यधिक प्रभावित थे जिसके चलते घर से निकलने के बाद स्वामी विवेकानंद द्वारा स्थापित हिन्दू आश्रम में गये थे

इसके बाद कोलकाता के बेल्लुर मठ, अल्मोड़ा के रामकृष्ण आश्रम में गये थे और फिर कुछ समय बिताने के बाद हिमालय में ऋषिकेश की यात्रा किया और फिर 2 वर्ष की आध्यात्मिक यात्रा के पश्चात वे वापस घर लौट आये, लेकिन इन यात्रा के दौरान मोदी कहा कहा गये थे लोगो में कई मतभेद है क्युकी इसका कोई लिखित प्रमाण नही है जिसका खुलासा खुद नरेंद्र मोदी ही कर सकते है

Narendra modi Biography | नरेंद्र मोदी की जीवनी 

घर लौटने के पश्चात महज 2 हफ्ते बिताने के पश्चात वे अपने चाचा के यहाँ राजकोट चले गये और ट्रांसपोर्ट के काम में हाथ बटाने लगे लेकिननरेंद्र मोदी का उदेश्य ही कुछ और था.

फिर वे पाने चाचा के यहाँ का काम छोड़कर पूर्ण रूप से एक सक्रिय सदस्य के रूप आरएसएस ज्वाइन कर लिया था आरएसएस एक ऐसा सामाजिक संघटन है जो की देश की सामाजिक, आर्थिक और देश की सांस्कृतिक धरोहर को सहेजने का कार्य करता है

इसके बाद आरएसएस के सक्रिय सदस्य के रूप में Narendra Modi देश भर के विभिन्न क्षेत्रो का भ्रमण किया और लोगो की समस्याओ का नजदीकी रूप से जानने का प्रयास किया

Narendra modi Biography

 

Narendra modi Biography

नरेंद्र मोदी जी का राजनितिक जीवन

आरएसएस ज्वाइन करने के बाद नरेंद्र मोदी का सक्रिय राजीनीतिक जीवन की शुरुआत देखने को मिलता है 1975 में जब देश में आपातकाल (Emergency) लागी कर दिया था तो आरएसएस जैसी संस्थाओ को बैन कर दिया गया था .

जिसके चलते आरएसएस के सक्रिय सदस्य के रूप में भेष बदलकर लोगो की सेवा करते रहे और आपातकाल का भरपूर विरोध भी किया, जिससे प्रभावित होकर उन्हें भारतीय जनता पार्टी के सदस्य के रूप में उन्हें स्थान मिला और फिर यही से नरेंद्र मोदी भारतीय जनता पार्टी के एक सदस्य रूप में अनेको कार्य का भार दिया गया.

फिर 1990 में भारतीय लोकतंत्र में मिलीजुली सरकारों का उदय हुआ तो नरेंद्र मोदी ने भाजपा के प्रचारक के रूप में कार्य करने लगे थे जिसके मेहनत का रंग 1995 के चुनावो में देखने को मिलता है.

Narendra modi Biography | नरेंद्र मोदी की जीवनी 

जिसके परिणाम स्वरुप गुजरात के चुनाव के भाजपा की दो तिहाई से ज्यादा बहुमत मिला, इसके बाद नरेंद्र मोदी की अगुवाई और देखरेख में सोमनाथ से अयोध्या से रथ यात्रा निकाली गयी इसके बाद मुरली मनोहर जोशी की कन्याकुमारी से कश्मीर की रथ यात्रा भी निकाला गया जिसकी सारी जिम्मेदारी नरेद्र मोदी के देखरेख में हुई थी.

जिसकी सफलता को देखकर उन्हें दिल्ली बुला लिया गया और फिर 5 राज्यों के संघटन के लिए इन्हें पार्टी का केन्द्रीय मंत्री भी नियुक्त किया गया और आगे चलकर गुजरात में 2001 में जब गुजरात के तत्कालीन मुख्यमंत्री केशुभाई पटेल की बीमारी अवस्था के चलते उन्हें पद से मुक्त करके नरेन्द्र मोदी को गुजरात का मुख्यमंत्री बना दिया गया.

Narendra modi Biography | नरेंद्र मोदी की जीवनी 

गुजरात के मुख्यमंत्री के रूप 

सन 2001 में गुजरात के मुख्यमंत्री पद सम्भालने के बाद नरेंद्र मोदी ने अपना पहला कार्यकाल 7 अक्टूबर 2001 से शुरू किया जिसके बाद अपने विशिष्ट जीवन शैली के लिए जाने वाले नरेंद्र मोदी  ने 2001 से लगातार 2014 तक 3 बार गुजरात के मुख्यमंत्री पद के रूप में सम्भाला, जिस दौरान नरेंद्र मोदी  ने गुजरात के विकास के लिए अनेको कार्य किये जो की नरेंद्र मोदी के गुजरात विकास माडल की चर्चा अब पूरे देश में की जाती है

गुजरात मुख्यमंत्री के रूप में नरेंद्र मोदी  को कई बार कई दिक्कतों का सामना भी करना पड़ा है 26 जनवरी 2002 में आये प्रलयकारी भूकम्प ने पूरे गुजरात की जीवन और अर्थव्यवस्था को ठस नहस कर दिया था लेकिन अपने असीमित क्षमता के बल पर नरेंद्र मोदी ने इस कठिन घड़ी का धैर्य से मुकाबला किया

और उसी साल एक बार फिर कारसेवको का गोधरा काण्ड के चलते पूरा गुजरात फिर से एक बार दंगो की आग की चपेट में आ गया था जिस दंगे में कारसेवको को ट्रेन में जिन्दा जला दिया गया था और फिर दंगे भड़कने के बाद अनेक मुस्लिम हिन्दू भी मारे गये थे.

Narendra modi Biography | नरेंद्र मोदी की जीवनी 

इन घटना का आरोप भी विपक्ष दलों पर नरेंद्र मोदी पर ही लगाया जा रहा था लेकिन भारत के सर्वोच्च न्यायालय ने नरेंद्र मोदी को कोई भी गवाह न मिलने के बाद इन्हें दोषी नही माना है और इन्हें बरी कर दिया गया

इसके बाद तो नरेन्द्र मोदी ने गुजरात के विकास के लिए अपनी हिन्दुत्ववादी छवि से हटकर आर्थिक विकास की बात किये और सबको साथ लेकर चलने वाले नरेद्र मोदी का एक ही लक्ष्य था सबका साथ सबका विकास जो की आज के समय में गुजरात के विकास को देखकर इसका अंदाजा लगाया जा सकता है गुजरात के मुख्यमंत्री पद को सम्भालते हुए नरेंद्र मोदी ने अनेक योजनाये लागू की जो की काफी सफल रही जिनमे पंचामृत योजना, सुजलाम सुफलाम, कृषि महोत्सव, बेटी बचाओ, ज्योतिग्राम योजना जैसे अनेक योजनाये है

Narendra modi Biography | नरेंद्र मोदी की जीवनी 

भारत के प्रधानमन्त्री नरेन्द्र मोदी

जून 2013 में नरेंद्र मोदी को बीजेपी के प्रधानमन्त्री पद के रूप घोषित किया गया इसके बाद तो कभी न थकने वाले नरेन्द्र मोदी ने पूरे देश में घूम घूमकर पूरे देश में चुनावी जीत के लिए प्रचार किया और फिर 2014 में भारतीय जनता पार्टी की बम्पर जीत हुई और नरेंद्र मोदी के अगुवाई में 534 लोकसभा सीटो में 282 सीटे जीतकर इस जीत को ऐतिहासिक बनाया और इसी जीत के साथ ही नरेंद्र मोदी भारत देश के 15वे प्रधानमन्त्री पद को सम्भाला और नरेन्द्र मोदी भारत के ऐसे प्रधानमन्त्री भी ने जो की भारत के स्वतंत्र होने बाद जन्मे हुए है.

Narendra modi Biography | नरेंद्र मोदी की जीवनी 

प्रधानमन्त्री के रूप में नरेन्द्र मोदी स्वच्छ भारत, मन की बात, बेटी बचाओ बेटी पढाओ जैसे अनेक योजनाओ से वे जनता से सीधे रूप से जुड़े रहते है और भारत को स्वच्छ बनाने का नरेन्द्र मोदी का बहुत बड़ा सपना है जिसपर ये लगातार कार्य करते रहते है.

 Madhyprdesh ki nadiya | मध्यप्रदेश की नदिया

BUY

 Madhyprdesh ki nadiya | मध्यप्रदेश की नदिया

BUY

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here