डिक्री क्या है | What is Decree | Decree meaning in hindi

आज के इस आर्टिकल में मै आपको “ डिक्री क्या है | What is Decree | Decree meaning in hindi ” के विषय में बताने जा रहा हूँ आशा करता हूँ मेरा यह प्रयास आपको जरुर पसंद आएगा । तो चलिए जानते है की –

What is Decree | Decree meaning in hindi | डिक्री क्या है

डिक्री की परिभाषा व्यवहार प्रक्रिया संहिता, 1908 की धारा 2(2) में प्रावधानित की गई है।

डिक्री से ऐसे न्यायनिर्णयन की प्रारूपिक अभिव्यक्ति अभिप्रेत है जो जहाँ तक कि वह उसे अभिव्यक्त करने वाले न्यायालय से संबंधित है वाद में के सभी या किन्हीं विवादग्रस्त विषयों के संबंध म पक्षकारों के अधिकारों का निश्चायक रूप से अवधारण करता है और वह या तो प्रारम्भिक या अंतिम हो सकेगी। यह समझा जायेगा कि इसके अंतर्गत वाद पत्र का नामंजूर किया जाना और धारा 144 के भीतर के किसी प्रश्न का अवधारण आता है किन्तु इसके अंतर्गत –

न तो कोई ऐसा न्यायनिर्णयन आयेगा जिसकी अपील आदेश की अपील की भाँति होती है और न व्यतिक्रम के लिये खारिज करने का कोई आदेश आयेगा।

What is a decree ?

The definition of the decree is provided for in section 2 (2) of the Code of Behavior Procedures, 1908.

The decree refers to the drafting expression of such adjudication which so far as it relates to the court expressing it definitively determines the rights of the parties in relation to all or any of the disputed matters in the suit and is either preliminary or final. Will be possible. It will be understood that under this, the denial of the suit letter and the determination of any question within section 144 comes but under it –

Neither any such adjudication will come whose appeal is like the appeal of the order and neither will there be any order for dismissal for the default.

 Madhyprdesh ki nadiya | मध्यप्रदेश की नदियाBUY Madhyprdesh ki nadiya | मध्यप्रदेश की नदियाBUY
Updated: February 4, 2020 — 10:51 am

Leave a Reply

Your email address will not be published.