Home LAW धारा 29 CrPC | Section 29 CrPC in Hindi | CrPC Section...

धारा 29 CrPC | Section 29 CrPC in Hindi | CrPC Section 29

2150
0
section 29 CrPC in Hindi

आज के इस आर्टिकल में मै आपको “ दंडादेश, जो मजिस्ट्रेट दे सकेंगे | दंड प्रक्रिया संहिता की धारा 29 क्या है | section 29 CrPC in Hindi | Section 29 in The Code Of Criminal Procedure | CrPC Section 29 | Sentences which Magistrates may pass के विषय में बताने जा रहा हूँ आशा करता हूँ मेरा यह प्रयास आपको जरुर पसंद आएगा । तो चलिए जानते है की –

दंड प्रक्रिया संहिता की धारा 29 |  Section 29 in The Code Of Criminal Procedure

[ CrPC Sec. 29 in Hindi ] –

दंडादेश, जो मजिस्ट्रेट दे सकेंगे—

(1) मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट का न्यायालय मृत्यु या आजीवन कारावास या सात वर्ष से अधिक की अवधि के लिए कारावास के दंडादेश के सिवाय कोई ऐसा दंडादेश दे सकता है जो विधि द्वारा प्राधिकृत है।

(2) प्रथम वर्ग मजिस्ट्रेट का न्यायालय तीन वर्ष से अनधिक अवधि के लिए कारावास का या दस हजार रुपए से अनधिक जुर्माने का, या दोनों का, दंडादेश दे सकता है।

(3) द्वितीय वर्ग मजिस्ट्रेट का न्यायालय एक वर्ष से अनधिक अवधि के लिए कारावास का या पांच हजार रुपए] से अनधिक जुर्माने का, या दोनों का, दंडादेश दे सकता है।

(4) मुख्य महानगर मजिस्ट्रेट के न्यायालय को मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट के न्यायालय की शक्तियां और महानगर मजिस्ट्रेट के न्यायालय को प्रथम वर्ग मजिस्ट्रेट की शक्तियां होंगी।

धारा 29 CrPC

[ CrPC Sec. 29 in English ] –

“ Sentences which Magistrates may pass ”–

(1) The Court of a Chief Judicial Magistrate may pass any sentence authorised by law except a sentence of death or of imprisonment for life or of imprisonment for a term exceeding seven years.
(2) The Court of a Magistrate of the first class may pass a sentence of imprisonment for a term not exceeding three years, or of fine not exceeding five thousand rupees, or of both.
(3) The Court of a Magistrate of the second class may pass a sentence of imprisonment for a term not exceeding one year, or of fine not exceeding one thousand rupees, or of both.
(4) The Court of a Chief Metropolitan Magistrate shall have the powers of the Court of a Chief Judicial Magistrate and that of a Metropolitan Magistrate, the powers of the Court of a Magistrate of the first class.

धारा 29 CrPC

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here