Home LAW धारा 260 CrPC | Section 260 CrPC in Hindi | CrPC Section...

धारा 260 CrPC | Section 260 CrPC in Hindi | CrPC Section 260

1319
0
section 260 CrPC in Hindi

आज के इस आर्टिकल में मै आपको “संक्षिप्त विचारण करने की शक्ति | दंड प्रक्रिया संहिता की धारा 260 क्या है | section 260 CrPC in Hindi | Section 260 in The Code Of Criminal Procedure | CrPC Section 260 | Power to try summarily के विषय में बताने जा रहा हूँ आशा करता हूँ मेरा यह प्रयास आपको जरुर पसंद आएगा । तो चलिए जानते है की –

दंड प्रक्रिया संहिता की धारा 260 |  Section 260 in The Code Of Criminal Procedure

[ CrPC Sec. 260 in Hindi ] –

संक्षिप्त विचारण करने की शक्ति–

(1) इस संहिता में किसी बात के होते हुए भी यदि,

(क) कोई मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट; (ख) कोई महानगर मजिस्ट्रेट ;

(ग) कोई प्रथम वर्ग मजिस्ट्रेट जो उच्च न्यायालय द्वारा इस निमित्त विशेषतया सशक्त किया गया है, ___ठीक समझता है तो वह निम्नलिखित सब अपराधों का या उनमें से किसी का संक्षेपतः विचारण कर सकता है.

(1) वे अपराध जो मृत्यु, आजीवन कारावास या दो वर्ष से अधिक की अवधि के लिए कारावास से दंडनीय नहीं है;

(ii) भारतीय दंड संहिता (1860 का 45) की धारा 379, धारा 380 या धारा 381 के अधीन चोरी, जहां चुराई हुई संपत्ति का मूल्य [दो हजार रुपए] से अधिक नहीं है :

(ii) भारतीय दंड संहिता (1860 का 45) की धारा 411 के अधीन चोरी की संपत्ति को प्राप्त करना या रखे रखा, जहां ऐसी संपत्ति का मूल्य दो हजार रुपए] से अधिक नहीं है।

(iv) भारतीय दंड संहिता (1860 का 45) की धारा 414 के अधीन चुराई हुई संपत्ति को छिपाने का उसका व्ययन करने में सहायता करना, जहां ऐसी संपत्ति का मूल्य [दो हजार रुपए से अधिक नहीं है।

(v) भारतीय दंड संहिता (1860 का 45) की धारा 454 और 456 के अधीन अपराध ;

(vi) भारतीय दंड संहिता (1860 का 45) की धारा 504 के अधीन लोकशांति भंग कराने को प्रकोपित करने के आशय से अपमान और धारा 506 के अधीन [आपराधिक अभित्रास, जो ऐसे कारावास से, जिसकी अवधि दो वर्ष तक की हो सकेगी या जुर्माने से या दोनों से दंडनीय होगा।]

(vii) पूर्ववर्ती अपराधों में से किसी का दुप्रेरण; (viii) पूर्ववर्ती अपराधों में से किसी को करने का प्रयत्न, जब ऐसा प्रयत्न, अपराध है;

(ix) ऐसे कार्य से होने वाला कोई अपराध, जिसकी बाबत पशु अतिचार अधिनियम, 1871 (1871 का 1) की धारा 20 के अधीन परिवाद किया जा सकता है।

(2) जब संक्षिप्त विचारण के दौरान मजिस्ट्रेट को प्रतीत होता है कि मामला इस प्रकार का है कि उसका विचारण संक्षेपतः किया जाना अवांछनीय है तो वह मजिस्ट्रेट किन्हीं साक्षियों को, जिनकी परीक्षा की जा चुकी है. पुन: बुलाएगा और मामले को इस संहिता द्वारा उपबंधित रीति से पुनः सुनने के लिए अग्रसर होगा।

धारा 260 CrPC

[ CrPC Sec. 260 in English ] –

“Power to try summarily”–

(1) Notwithstanding anything contained in this Code-

(a) any Chief Judicial Magistrate;
(b) any Metropolitan Magistrate;
(c) any Magistrate of the first class specially empowered in this behalf by the High Court, may, if he thinks fit, try in a summary way all or any of the following offences:-

(i) offences not punishable with death, imprisonment for life or imprisonment for a term exceeding two years;
(ii) theft, under section 379, section 380 or section 381 of the India Penal Code (45 of 1860 ), where the value of the property stolen does no exceed two hundred rupees;
(iii) receiving or retaining stolen property, under section 411 of the Indian Penal Code (45 of 1860 ), where the value of the property does not exceed two hundred rupees;
(iv) assisting in the concealment or disposal of stolen property under section 414 of the Indian Panel Code (45 of 1860 ), where the value of such property does not exceed two hundred rupees;
(v) offences under sections 454 and 456 of the Indian Penal Code (45 of 1860 );
(vi) insult with intent to provoke a breach of the peace, under section 504, and criminal intimidation, under section 506 of the Indian Penal Code (45 of 1860 );
(vii) abetment of any of the foregoing offences;
(viii) an attempt to commit any of the foregoing offences, when such attempt is an offence;

(ix) any offence constituted by an act in respect of which a complaint may be made under section 20 of the Cattle- trespass Act, 1871 (1 of 1871 ).
(2) When, in the course of a summary trial it appears to the Magistrate that the nature of the case is such that it is undesirable to try it summarily, the Magistrate shall recall any witnesses who may have been examined and proceed to re- hear the case in the manner provided by this Code.

धारा 260 CrPC

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here