Home ALL POST Constitution of India part 23 : Indian constitution in Hindi

Constitution of India part 23 : Indian constitution in Hindi

90
0
Constitution of India part 23 : Indian constitution in Hindi

भारतीय संविधान वस्तुनिष्ठ प्रश्नोत्तरी

भाग – 23

प्रतियोगिता परीक्षाओं की तैयारी हेतु

Constitution of India part 23 : Indian constitution in Hindi

(१)  किस वाद में अनुछेद 31(c) के उस संशोधन को जो राज्य के सभी नीति निदेशक तत्वों को मूल अधिकारों पर वरीयता प्रदान करता था , शून्य घोषित किया गया ?

अ- केशवा नन्द भारती बनाम  केरल राज्य

ब- मिनर्वा मिल्स बनाम भारत संघ

स- एम.के . राय बनाम भारत संघ

द- उपरोक्त में से कोई नही

 

(२)  संवेधानिक उपचारों का अधिकार दिया गया है ?

अ- अनुछेद 31 में

ब-  अनुछेद 32 में

स-अनुछेद30 में

द-अनुछेद 33 में

 

(३)  किस आयु से कम के बच्चो को किसी फेक्ट्री या खान में रोजगार पर नहीं रखा जा सकता ?

अ- 10 वर्ष

ब-  14 वर्ष 

स-  15 वर्ष

द-  18 वर्ष

(४)  कौन से अनुछेद के अधीन मूल अधिकारों के प्रवर्तन के लिए रिटे निकालने की शक्ति  उच्चतम न्यायालय और उच्च न्यायालय को दी गयी है ?

अ- अनुछेद32

ब- अनुछेद 226

स- अनुछेद 32 और अनुछेद 226 दोनों

द- न तो  अनुछेद 32 और और न ही अनुछेद 226

Constitution of India part 23 : Indian constitution in Hindi

(५)  संविधान में लोकहित वाद की उत्पत्ति किस अनुछेद से हुई है ?

अ- अनुछेद 226

ब- अनुछेद 32 

स- अनुछेद136

द- अनुछेद 245

 

 

 

(६)  एक व्यक्ति उसके मुलभुत अधिकारों का उलंघन होने पर उच्च न्यायालय को आवेदन कर सकता है ?

अ- अनुछेद 20 के अंतर्गत

ब- अनुछेद32 के अंतर्गत

स- अनुछेद 226 के अंतर्गत

द- अनुछेद 22 के अंतर्गत

 

(७)  मूल अधिकारों के हनन होने पर प्रभावित व्यक्ति रिट याचिका प्रस्तुत कर सकता है ?

अ- केवल उच्च न्यायालय में

ब- केवल उच्चतम न्यायालय में

स- उच्च न्यायालय या उच्चतम न्यायालय में

द- जिला न्यायाधीश के न्यायालय में

 

(८)  निम्न में से कौन सी रिट उछ न्यायालय द्वारा जारी की जा सकेगी ?

अ- प्रतिषेध

ब- परमादेश

स- उत्प्रेष्ण

द- ये सभी

Constitution of India part 23 : Indian constitution in Hindi

(९)  उच्चतम न्यायालय ने लोक हित के मुकदमो के लिए अधिकारिता का आधार पाया –

अ- राज्य के नीति निदेशक तत्वों में

ब- संविधान की उद्देशिका में

स- अनुछेद 32(1) में

द- अनुछेद 35 में

 

(१०) यदि किसी अधिनियम की कोई धारा शून्य हो जाती है तो –

अ- अधिनियम शून्य हो जायेगा

ब- अधिनियम अवैध हो जायेगा

स- उस धारा को हटाने पर अधिनियम वैध हो जायेगा

द- कोई नहीं

 Madhyprdesh ki nadiya | मध्यप्रदेश की नदिया

BUY

 Madhyprdesh ki nadiya | मध्यप्रदेश की नदिया

BUY

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here