Home LAW धारा 6 संविदा अधिनियम | Section 6 Indian Contract act in Hindi

धारा 6 संविदा अधिनियम | Section 6 Indian Contract act in Hindi

2776
0

आज के इस आर्टिकल में मै आपको प्रतिसंहरण कैसे किया जाता है | भारतीय संविदा अधिनियम की धारा 6 क्या है | Section 6 Indian Contract act in Hindi | Section 6 of Indian Contract act | धारा 6 भारतीय संविदा अधिनियम | Revocation how madeके विषय में बताने जा रहा हूँ आशा करता हूँ मेरा यह प्रयास आपको जरुर पसंद आएगा । तो चलिए जानते है की –

भारतीय संविदा अधिनियम की धारा 6 |  Section 6 of Indian Contract act

[ Indian Contract act Sec. 6 in Hindi ] –

प्रतिसंहरण कैसे किया जाता है

 प्रस्थापना का प्रतिसंहरण हो जाता है

(1) प्रस्थापक द्वारा दूसरे पक्षकार को प्रतिसंहरण की सूचना के संसूचित किए जाने से;

(2) ऐसी प्रस्थापना में उसके प्रतिग्रहण के लिए विहित समय के बीत जाने से या यदि कोई समय इस प्रकार विहित न हो तो प्रतिग्रहण की संसूचना के बिना युक्तियुक्त समय बीत जाने से;

(3) प्रतिग्रहण किसी पुरोभाव्य शर्त को पूरा करने में प्रतिगृहीता की असफलता से; अथवा

(4) प्रस्थापक की मृत्यु या उन्मत्तता से, यदि उसकी मृत्यु या उन्मत्तता का तथ्य प्रतिगृहीता के ज्ञान में प्रतिग्रहण से पूर्व आ जाए।

धारा 6 Indian Contract act

[ Indian Contract act Sec. 6  in English ] –

“ Revocation how made ”–

A proposal is revoked—

(1) by the communication of notice of revocation by the proposer to the other party;

(2) by the lapse of the time prescribed in such proposal for its acceptance, or, if no time is so prescribed, by the lapse of a reasonable time, without communication of the acceptance;

(3) by the failure of the acceptor to fulfil a condition precedent to acceptance; or

(4) by the death or insanity of the proposer, if the fact of his death or insanity comes to the knowledge of the acceptor before acceptance.

धारा 6 Indian Contract act

भारतीय संविदा अधिनियम 

Pdf download in hindi

Indian contract act 

Pdf download in English 

Section 1 of limitation act Section 1 of limitation act

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here