Home LAW धारा 431 CrPC | Section 431 CrPC in Hindi | CrPC Section...

धारा 431 CrPC | Section 431 CrPC in Hindi | CrPC Section 431

2375
0

आज के इस आर्टिकल में मै आपको जिस धन का संदाय करने का आदेश दिया गया है उसका जुर्माने के रूप में वसूल किया जा सकना | दंड प्रक्रिया संहिता की धारा 431 क्या है | section 431 CrPC in Hindi | Section 431 in The Code Of Criminal Procedure | CrPC Section 431 | Money ordered to be paid recoverable as fineके विषय में बताने जा रहा हूँ आशा करता हूँ मेरा यह प्रयास आपको जरुर पसंद आएगा । तो चलिए जानते है की –

दंड प्रक्रिया संहिता की धारा 431 |  Section 431 in The Code Of Criminal Procedure

[ CrPC Sec. 431 in Hindi ] –

जिस धन का संदाय करने का आदेश दिया गया है उसका जुर्माने के रूप में वसूल किया जा सकना —

कोई धन (जो जुर्माने से भिन्न है, जो इस संहिता के अधीन दिए गए किसी आदेश के आधार पर संदेय है और जिसकी वसूली का ढंग अभिव्यक्त रूप से अन्यथा उपबंधित नहीं है, ऐसे वसूल किया जा सकता है मानो वह जुर्माना है :

परन्तु इस धारा के आधार पर, धारा 359 के अधीन किसी आदेश को लागू होने में धारा 421 का अर्थ इस प्रकार लगाया जाएगा मानो धारा 421 की उपधारा (1) के परन्तुक में “धारा 357 के अधीन आदेश” शब्दों और अंकों के पश्चात्, “या बों के संदाय के लिए धारा 359 के अधीन आदेश” शब्द और अंक अन्तःस्थापित कर दिए गए हैं।

धारा 431 CrPC

[ CrPC Sec. 431 in English ] –

“Money ordered to be paid recoverable as fine”–

Any money (other than a fine) payable by virtue of any order made under this Code, and the method of recovery of which is not otherwise expressly provided for, shall be recoverable as if it were a fine: Provided that section 421 shall, in its application to an order under section 359, by virtue of this section, be construed as if in the proviso to sub- section (1) of section 421, after the words and figures” under section 357″, the words and figures” or an order for payment of costs under section 359″ had been inserted, E.- Suspension, remission and commutation of sentences

धारा 431 CrPC

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here