Home LAW धारा 40 विनिर्दिष्ट अनुतोष | Section 40 of Specific relief act in...

धारा 40 विनिर्दिष्ट अनुतोष | Section 40 of Specific relief act in Hindi

1899
0

आज के इस आर्टिकल में मै आपको “व्यादेश के स्थान पर या उसके अतिरिक्त नुकसानी | विनिर्दिष्ट अनुतोष अधिनियम की धारा 40 क्या है | Section 40 Specific relief act in Hindi | Section 40 of Specific relief act | धारा 40 विनिर्दिष्ट अनुतोष अधिनियम | Damages in lieu of, or in addition to, injunctionके विषय में बताने जा रहा हूँ आशा करता हूँ मेरा यह प्रयास आपको जरुर पसंद आएगा । तो चलिए जानते है की –

विनिर्दिष्ट अनुतोष अधिनियम की धारा 40 |  Section 40 of Specific relief act

[ Specific relief act Sec. 40 in Hindi ] –

व्यादेश के स्थान पर या उसके अतिरिक्त नुकसानी-

(1) धारा 38 के अधीन व्यादेश के या धारा 39 के अधीन आज्ञापक व्यादेश के बाद में वादी ऐसे व्यादेश के अतिरिक्त या स्थान पर, नुकसानी का दावा कर सकेगा और न्यायालय यदि ठीक समझे तो ऐसी नुकसानी दिला सकेगा।

(2) इस धारा के अधीन नुकसानी का कोई अनुतोष तब तक नहीं दिया जाएगा जब तक कि वादी ने अपने वादपत्र में ऐसे जनुतोष का दावा न किया हो :

परन्तु जहाँ कि वादपत्र में ऐसी किसी भी नुकसानी का दावा न किया गया हो वहाँ न्यायालय कार्यवाही के किसी भी प्रक्रम में इसलिए कि वादी ऐसे दावे को वादपत्र के अन्तर्गत कर सके वादपत्र का संशोधन करने के लिए ऐसे निबन्धनों पर अनुज्ञा देगा जैसे न्याससंगत हों।

(3) वादी के पक्ष में विद्यमान बाध्यता के भंग को निवारित करने के बाद की खारिजी ऐसे भंग के लिए नुकसानी का वाद लाने के उसके अधिकार को वर्जित करेगी।

धारा 40 Specific relief act

[ Specific relief act Sec. 40 in English ] –

“ Damages in lieu of, or in addition to, injunction”–

(1) The plaintiff in a suit for perpetual injunction under section 38, or mandatory injunction under section 39, may claim damages either in addition to, or in substitution for, such injunction and the court may, if it thinks fit, award such damages .

(2) No relief for damages shall be granted under this section unless the plaintiff has claimed such relief in his plaint:

Provided that where no such damages have been claimed in the plaint, the court shall, at any stage of the proceedings, allow the plaintiff to amend the plaint on such terms as may be just for including such claim.

(3) The dismissal of a suit to prevent the breach of an obligation existing in favour of the plaintiff shall bar his right to sue for damages for such breach .

धारा 40 Specific relief act

Specific relief Act Pdf download in hindi

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here