Home LAW धारा 307 CrPC | Section 307 CrPC in Hindi | CrPC Section...

धारा 307 CrPC | Section 307 CrPC in Hindi | CrPC Section 307

3397
0

आज के इस आर्टिकल में मै आपको “ क्षमा-दान का निदेश देने की शक्ति | दंड प्रक्रिया संहिता की धारा 307 क्या है | section 307 CrPC in Hindi | Section 307 in The Code Of Criminal Procedure | CrPC Section 307 | Power to direct tender of pardonके विषय में बताने जा रहा हूँ आशा करता हूँ मेरा यह प्रयास आपको जरुर पसंद आएगा । तो चलिए जानते है की –

दंड प्रक्रिया संहिता की धारा 307 |  Section 307 in The Code Of Criminal Procedure

[ CrPC Sec. 307 in Hindi ] –

क्षमा-दान का निदेश देने की शक्ति –

मामले की सुपुर्दगी के पश्चात् किसी समय किन्तु निर्णय दिए जाने के पूर्व वह न्यायालय जिसे मामला सुपुर्द किया जाता है किसी ऐसे अपराध से प्रत्यक्ष या परोक्ष रूप में सम्बद्ध या संसर्गित समझे जाने वाले किसी व्यक्ति का साक्ष्य विचारण में अभिप्राप्त करने की दृष्टि से उस व्यक्ति को उसी शर्त पर क्षमा-दान कर सकता है।

धारा 307 CrPC

[ CrPC Sec. 307 in English ] –

“ Power to direct tender of pardon ”–

At any time after commitment of a case but before judgment is passed, the Court to which the commitment is made may, with a view to obtaining at the trial the evidence of any person supposed to have been directly or indirectly concerned in, or privy to, any such offence, tender a pardon on the same condition to such person.

धारा 307 CrPC

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here