धारा 26 घरेलू हिंसा | Section 26 Domestic violence act in Hindi

आज के इस आर्टिकल में मै आपको “अन्य वादों और विधिक कार्यवाहियों में अनुतोष  | घरेलू हिंसा अधिनियम की धारा 26 क्या है | Section 26 Domestic violence act in Hindi | Section 26 of Domestic violence act | धारा 26 घरेलू हिंसा अधिनियम | Relief in other suits and legal proceedings के विषय में बताने जा रहा हूँ आशा करता हूँ मेरा यह प्रयास आपको जरुर पसंद आएगा । तो चलिए जानते है की –

घरेलू हिंसा अधिनियम की धारा 26 |  Section 26 of Domestic violence act

[ Domestic violence act Sec. 26 in Hindi ] –

अन्य वादों और विधिक कार्यवाहियों में अनुतोष.-

(1) धारा 18, धारा 19, धारा 20, धारा 21 और धारा 22 के अधीन उपलब्ध कोई अनुतोष, किसी सिविल न्यायालय, कुटुम्ब न्यायालय या किसी दाण्डिक न्यायालय के समक्ष व्यथित व्यक्ति और प्रत्यर्थी को प्रभावित करने वाली किसी विधिक कार्यवाही में भी, चाहे ऐसी कार्यवाही इस अधिनियम के प्रारम्भ से पूर्व या उसके पश्चात् आरम्भ की गई हो, ईप्सित किया जा सकेगा।

(2) उपधारा (1) में निर्दिष्ट कोई अनुतोष किसी अन्य अनुतोष के अतिरिक्त और उसके साथ-साथ कि व्यथित व्यक्ति, किसी सिविल या दाण्डिक न्यायालय के समक्ष ऐसे वाद या विधिक कार्यवाही में वांछा कर सकेगा, ईप्सित किया जा सकेगा।

(3) किसी मामले में, इस अधिनियम के अधीन किसी कार्यवाही से भिन्न किन्हीं कार्यवाहियों में व्यथित व्यक्ति द्वारा कोई अनुतोष अभिप्राप्त कर लिया है, तो वह ऐसे अनुतोष को अनुदत्त करने के लिए मजिस्ट्रेट को सूचित करने के लिए बाध्य होगा।

धारा 26 Domestic violence act

[ Domestic violence act Sec. 26 in English ] –

Relief in other suits and legal proceedings ”–

(1) Any relief available under sections 18, 19, 20, 21 and 22 may also be sought in any legal proceeding, before a civil court, family court or a criminal court, affecting the aggrieved person and the respondent whether such proceeding was initiated before or after the commencement of this Act. 

(2) Any relief referred to in sub-section (1) may be sought for in addition to and along with any other relief that the aggrieved person may seek in such suit or legal proceeding before a civil or criminal court.

(3) In case any relief has been obtained by the aggrieved person in any proceedings other than a proceeding under this Act, she shall be bound to inform the Magistrate of the grant of such relief.

धारा 26 Domestic violence act

घरेलू हिंसा अधिनियम 

Pdf download in hindi

Domestic violence act 

Pdf download in English 

Dowry prohibition act 1961 PDFDowry prohibition act 1961 PDF
Updated: May 14, 2020 — 9:57 pm

Leave a Reply

Your email address will not be published.