Home LAW धारा 239 CrPC | Section 239 CrPC in Hindi | CrPC Section...

धारा 239 CrPC | Section 239 CrPC in Hindi | CrPC Section 239

3759
0

आज के इस आर्टिकल में मै आपको “अभियुक्त को कब उन्मोचित किया जाएगा | दंड प्रक्रिया संहिता की धारा 239 क्या है | section 239 CrPC in Hindi | Section 239 in The Code Of Criminal Procedure | CrPC Section 239 | When accused shall be discharged के विषय में बताने जा रहा हूँ आशा करता हूँ मेरा यह प्रयास आपको जरुर पसंद आएगा । तो चलिए जानते है की –

दंड प्रक्रिया संहिता की धारा 239 |  Section 239 in The Code Of Criminal Procedure

[ CrPC Sec. 239 in Hindi ] –

अभियुक्त को कब उन्मोचित किया जाएगा–

यदि धारा 173 के अधीन पुलिस रिपोर्ट और उसके साथ भेजी गई दस्तावेजों पर विचार कर लेने पर और अभियुक्त की ऐसी परीक्षा, यदि कोई हो, जैसी मजिस्ट्रेट आवश्यक समझे, कर लेने पर और अभियोजन और अभियुक्त को सुनवाई का अवसर देने के पश्चात् मजिस्ट्रेट अभियुक्त के विरुद्ध आरोप को निराधार समझता है तो वह उसे उन्मोचित कर देगा और ऐसा करने के अपने कारण लेखबद्ध करेगा।

धारा 239 CrPC

[ CrPC Sec. 239 in English ] –

“ When accused shall be discharged ”–

 If, upon considering the police report and the documents sent with it under section 173 and making such examination, if any, of the accused as the Magistrate thinks necessary and after giving the prosecution and the accused an opportunity of being heard, the Magistrate considers the charge against the accused to be groundless, he shall discharge the accused, and record his reasons for so doing

धारा 239 CrPC

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here