Home LAW धारा 22 विनिर्दिष्ट अनुतोष | Section 22 of Specific relief act in...

धारा 22 विनिर्दिष्ट अनुतोष | Section 22 of Specific relief act in Hindi

1977
0

आज के इस आर्टिकल में मै आपको “कब्जा, विभाजन, अग्रिम धन के प्रतिदाय आदि के लिए अनुतोष करने की शक्ति | विनिर्दिष्ट अनुतोष अधिनियम की धारा 22 क्या है | Section 22 Specific relief act in Hindi | Section 22 of Specific relief act | धारा 22 विनिर्दिष्ट अनुतोष अधिनियम | Power to grant relief for possession, partition, refund of earnest money, etcके विषय में बताने जा रहा हूँ आशा करता हूँ मेरा यह प्रयास आपको जरुर पसंद आएगा । तो चलिए जानते है की –

विनिर्दिष्ट अनुतोष अधिनियम की धारा 22 |  Section 22 of Specific relief act

[ Specific relief act Sec. 22 in Hindi ] –

कब्जा, विभाजन, अग्रिम धन के प्रतिदाय आदि के लिए अनुतोष करने की शक्ति-

(1) सिविल प्रक्रिया संहिता, 1908 (1908 का 5) में किसी तत्प्रतिकूल बात के अन्तर्विष्ट होते हुए भी, स्थावर सम्पत्ति के अन्तरण की संविदा के विनिर्दिष्ट पालन का बाद लाने वाला कोई व्यक्ति, समुचित मामले में

(क) ऐसे पालन के अतिरिक्त सम्पत्ति का कब्जा या विभाजन और पृथक् कब्जा माँग सकेगा; अथवा

(ख) उस दशा में जिसमें कि उसका विनिर्दिष्ट पालन का दावा नामंजूर कर दिया गया हो कोई भी अन्य अनुतोष, जिसका वह हकदार हो और जिसके अन्तर्गत ३[उस द्वारा दिए गए किसी अग्रिम धन या निक्षेप का प्रतिदाय भी आता है, माँग सकेगा।

(2) उपधारा (1) के खण्ड (क) या खण्ड (ख) के अधीन कोई भी अनुतोष न्यायालय द्वारा अनुदत्त नहीं किया जाएगा जब तक कि उसका विनिर्दिष्टत: दावा न किया गया हो;

परन्तु जहाँ कि वादपत्र में वादी ने किसी ऐसे अनुतोष का दावा न किया हो वहाँ न्यायालय कार्यवाही के किसी भी प्रक्रम में वादी को वादपत्र में ऐसे अनुतोष का दावा अन्तर्गत करने के लिए संशोधन करने की अनुज्ञा ऐसे निबन्धनों पर देगा जैसे न्यायसंगत हों।

(3) उपधारा (1) के खण्ड (ख) के अधीन अनुतोष अनुदत्त करने की न्यायालय की शक्ति धारा 21 के अधीन प्रतिकर देने की उसकी शक्तियों पर प्रतिकूल प्रभाव नहीं डालेगी।

धारा 22 Specific relief act

[ Specific relief act Sec. 22 in English ] –

“ Power to grant relief for possession, partition, refund of earnest money, etc”–

(1) Notwithstanding anything to the contrary contained in the Code of Civil Procedure,1908 (5 of 1908), any person suing for the specific performance of a contract for the transfer of immovable property may, in an appropriate case, ask for—

(a) possession, or partition and separate possession, of the property in addition to such performance; or

(b) any other relief to which he may be entitled, including the refund of any earnest money or deposit paid or 1[made by] him, in case his claim for specific performance is refused .

(2) No relief under clause (a) or clause (b) of sub-section (1) shall be granted by the court unless it has been specifically claimed:

Provident that where the plaintiff has not claimed any such relief in the plaint, the court shall, at any stage of the proceeding, allow him to amend the plaint on such terms as may be just for including a claim for such relief.

(3) The power of the court to grant relief under clause (b) of sub-section (1) shall be without prejudice to its powers to award compensation under section 21.

धारा 22 Specific relief act

Specific relief Act Pdf download in hindi

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here