Home LAW धारा 20 संविदा अधिनियम | Section 20 Indian Contract act in Hindi

धारा 20 संविदा अधिनियम | Section 20 Indian Contract act in Hindi

3614
0

आज के इस आर्टिकल में मै आपको जब कि दोनों पक्षकार तथ्य की बात सम्बन्धी भूल में हों तब करार शून्य है | भारतीय संविदा अधिनियम की धारा 20 क्या है | Section 20 Indian Contract act in Hindi | Section 20 of Indian Contract act | धारा 20 भारतीय संविदा अधिनियम | Agreement void where both parties are under mistake as to matter of factके विषय में बताने जा रहा हूँ आशा करता हूँ मेरा यह प्रयास आपको जरुर पसंद आएगा । तो चलिए जानते है की –

भारतीय संविदा अधिनियम की धारा 20 |  Section 20 of Indian Contract act

[ Indian Contract act Sec. 20 in Hindi ] –

जब कि दोनों पक्षकार तथ्य की बात सम्बन्धी भूल में हों तब करार शून्य है-

जहां कि किसी करार के दोनों पक्षकार ऐसी तथ्य की बात के बारे में, जो करार के लिए मर्मभूत है, भूल में हों वहां करार शून्य है।।

स्पष्टीकरण- जो चीज करार की विषयवस्तु हो उसके मूल्य के बारे में गलत राय, तथ्य की बात के बारे में भूल नहीं समझी जाएगी।

दृष्टांत

(क) माल के एक विनिर्दिष्ट स्थोरा को, जिसके बारे में यह अनुमान है कि वह इंग्लैंड से मुम्बई को चल चुका है, ख को भेजने का करार क करता है। पता चलता है कि सौदे के दिन से पूर्व, उस स्थोरा के प्रवहण करने वाला पोत संत्यक्त कर दिया गया था और माल नष्ट हो गया था। दोनों में से किसी भी पक्षकार को इन तथ्यों की जानकारी नहीं थी। करार शून्य है।

(ख) ख से अमुक घोड़ा खरीदने का करार क करता है । यह पता चलता है कि वह घोड़ा सौदे के समय मर चुका था, यद्यपि दोनों में से किसी भी पक्षकार को इस तथ्य की जानकारी नहीं थी। करार शून्य है।

(ग) ख के जीवनपर्यन्त के लिए एक सम्पदा का हकदार होते हुए क उसे ग को बेचने का करार करता है। करार के समय ख मर चुका था। किन्तु दोनों पक्षकार इस तथ्य से अनभिज्ञ थे । करार शून्य है।

धारा 20 Indian Contract act

[ Indian Contract act Sec. 20  in English ] –

“Agreement void where both parties are under mistake as to matter of fact”–

Where both the parties to an agreement are under a mistake as to a matter of fact essential to the agreement, the agreement is void.

Explanation.—An erroneous opinion as to the value of the thing which forms the subject-matter of the agreement, is not to be deemed a mistake as to a matter of fact.

Illustrations

(a) A agrees to sell to B a specific cargo of goods supposed to be on its way from England to Bombay. It turns out that, before the day of the bargain, the ship conveying the cargo had been cast away and the goods lost. Neither party was aware of the these facts. The agreement is void.

(b) A agrees to buy from B a certain horse. It turns out that the horse was dead at the time of bargain, though neither party was aware of the fact. The agreement is void.

(c) A, being entitled to an estate for the life of B, agrees to sell it to C. B was dead at the time of the agreement, but both parties were ignorant of the fact. The agreement is void.

धारा 20 Indian Contract act

भारतीय संविदा अधिनियम 

Pdf download in hindi

Indian contract act 

Pdf download in English 

Section 1 of limitation act Section 1 of limitation act

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here