Home LAW धारा 198a CrPC | Section 198a CrPC in Hindi | CrPC Section...

धारा 198a CrPC | Section 198a CrPC in Hindi | CrPC Section 198a

2867
0

आज के इस आर्टिकल में मै आपको “भारतीय दंड संहिता की धारा 498क के अधीन अपराधों का अभियोजन | दंड प्रक्रिया संहिता की धारा 198a क्या है | section 198a CrPC in Hindi | Section 198a in The Code Of Criminal Procedure | CrPC Section 198a | Prosecution of offences under section 498A of the Indian Penal Code के विषय में बताने जा रहा हूँ आशा करता हूँ मेरा यह प्रयास आपको जरुर पसंद आएगा । तो चलिए जानते है की –

दंड प्रक्रिया संहिता की धारा 198a |  Section 198a in The Code Of Criminal Procedure

[ CrPC Sec. 198a in Hindi ] –

भारतीय दंड संहिता की धारा 498क के अधीन अपराधों का अभियोजन—

कोई न्यायालय भारतीय दंड संहिता (1860 का 45) की धारा 498क के अधीन दंडनीय अपराध का संज्ञान ऐसे अपराध को गठित करने वाले तथ्यों की पुलिस रिपोर्ट पर अथवा अपराध से व्यथित व्यक्ति द्वारा या उसके पिता, माता, भाई, बहिन द्वारा या उसके पिता अथवा माता के भाई या बहिन द्वारा किए गए परिवाद पर या रक्त, विवाह या दत्तक ग्रहण द्वारा उससे संबंधित किसी अन्य व्यक्ति द्वारा न्यायालय की इजाजत से किए गए परिवाद पर ही करेगा अन्यथा नहीं।

धारा 198a CrPC

[ CrPC Sec. 198a in English ] –

“ Prosecution of offences under section 498A of the Indian Penal Code”–

No Court shall take cognizance of an Offence Punishable section 498A of the Indian Penal Code except upon a police report of facts which constitute such offence or Upon a complaint made by the person aggrieved by the offence or by her father, mother, brother, sister or by her father’ s or mother’ s brother or sister or, with the leave of the Court, by any other person related to her by blood, marriage or adoption.

धारा 198a CrPC

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here