Home LAW धारा 10 विनिर्दिष्ट अनुतोष | Section 10 of Specific relief act in...

धारा 10 विनिर्दिष्ट अनुतोष | Section 10 of Specific relief act in Hindi

2862
0

आज के इस आर्टिकल में मै आपको “दशाएं जिनमें संविदा का विनिर्दिष्ट पालन प्रवर्तनीय है | विनिर्दिष्ट अनुतोष अधिनियम की धारा 10 क्या है | Section 10 Specific relief act in Hindi | Section 10 of Specific relief act | धारा 10 विनिर्दिष्ट अनुतोष अधिनियम | Cases in which specific performance of contract enforceable के विषय में बताने जा रहा हूँ आशा करता हूँ मेरा यह प्रयास आपको जरुर पसंद आएगा । तो चलिए जानते है की –

विनिर्दिष्ट अनुतोष अधिनियम की धारा 10 |  Section 10 of Specific relief act

[ Specific relief act Sec. 10 in Hindi ] –

दशाएं जिनमें संविदा का विनिर्दिष्ट पालन प्रवर्तनीय है-

इस अध्याय में अन्यथा उपबन्धित के सिवाय, किसी भी संविदा का विनिर्दिष्ट पालन न्यायालय के विवेकानुसार प्रवर्तित कराया जा सकेगा-

(क) जबकि उस कार्य का, जिसके करने का करार हुआ है, अपालन द्वारा कारित वास्तविक नुकसान का अभिनिश्चय करने के लिए कोई मानक विद्यमान न हो; अथवा

(ख) जबकि वह कार्य, जिसके करने का करार हुआ है ऐसा हो कि उसके अपालन के लिए धन के रूप में प्रतिकर यथायोग्य अनुतोष न पहुंचाता हो।

स्पष्टीकरण-जब तक और जहाँ तक कि तत्प्रतिकूल साबित न कर दिया जाए न्यायालय यह उपधारित करेगा कि

(i) स्थावर सम्पत्ति के अन्तरण की संविदा के भंग का धन के रूप में प्रतिकर द्वारा यथायोग्य अनुतोष नहीं दिया जा सकता; तथा

(ii) जंगम सम्पत्ति के अन्तरण की संविदा के भंग का इस प्रकार अनुतोष दिया जा सकता है सिवाय निम्नलिखित दशाओं के-

(क) जहाँ कि सम्पत्ति मामूली वाणिज्य-वस्तु न हो अथवा वादी के लिए विशेष मूल्य या हित की हो अथवा ऐसा माल हो जो बाजार में सुगमता से अभिप्राप्य नहीं हो;

(ख) जहाँ कि सम्पत्ति प्रतिवादी द्वारा वादी के अभिकर्ता या न्यासी के रूप में धारित हो।

धारा 10 Specific relief act

[ Specific relief act Sec. 10 in English ] –

Cases in which specific performance of contract enforceable ”–

Except as otherwise provided in this Chapter, the specific performance of any contract may, in the discretion of the court, be enforced-

(a) when there exists no standard for ascertaining actual damage caused by the non-performance of the act agreed to be done; or

(b) when the act agreed to be done is such that compensation in money for its non-performance would not afford adequate relief.

Explanation – Unless and until the contrary is proved, the court shall presume-

(i) that the breach of a contract to transfer immovable property cannot be adequately relieved by compensation in money; and

(ii) that the breach of a contract to transfer movable property can be so relieved except in the following cases :

(a) where the property is not an ordinary article of commerce, or is of special value or interest to the plaintiff, or consists of goods which are not easily obtainable in the market;

(b) where the property is held by the defendant as the agent or trustee of the plaintiff.

धारा 10 Specific relief act

Specific relief Act Pdf download in hindi

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here