Home ALL POST लूट क्या है | Robbery kya hai | Dhara 390 Ipc

लूट क्या है | Robbery kya hai | Dhara 390 Ipc

309
0
Robbery kya hai | Dhara 390 Ipc

लूट क्या है | Robbery kya hai | Dhara 390 Ipc

Robbery kya hai | Dhara 390 Ipc

इस आर्टिकल में मै आपको भारतीय दंड संहिता की बहुत ही महत्वपूर्ण धारा 390 (लूट) के बारे में बताने का प्रयास कर रहा हूँ . आशा करता हूँ की मेरा यह प्रयास आपको पसंद आएगा . तो चलिए जान लेते हैं की –

लूट क्या है और इसके आवश्यक तत्त्व क्या है ?

धारा 390 – सब प्रकार की लूट में या तो चोरी होती है या उद्दापन होती है .

लूट के आवश्यक तत्व –

(१) – सभी लूट में मूलतः चोरी या उद्दापन होती है.

(२) – चोरी लूट है यदि –

अ –  उस चोरी को करने हेतु या उस चोरी को करने में या उस चोरी में प्राप्त संपत्ति को ले जाने के प्रयत्न में ,

ब –  अपराधी , उस उद्देश्य से स्वेच्छया ,

स –  किसी व्यक्ति की मृत्यु या उपहति या सदोष अवरोध या तत्काल मृत्यु का या तत्काल उपहति या तत्काल सदोष अवरोध का भय कारित करता है या प्रयत्न करता है

Robbery kya hai | Dhara 390 Ipc

(३) –  उद्दापन लूट होगा यदि अपराधी –

अ –  वह उददापन करते समय ,

ब –  भय में डाले गए व्यक्ति की उपस्थिति में , तथा

स –  उस व्यक्ति को स्वयं या किसी अन्य व्यक्ति को तत्काल मृत्यु , तत्काल उपहति , या तत्काल सदोष अवरोध , के भय में डालकर उस व्यक्ति को उद्दापित की जाने वाली चीज उसी समय तथा वहीँ परिदत्त करने हेतु उत्प्रेरित करता है .

Robbery kya hai | Dhara 390 Ipc

लूट के लिए दंड 

धारा 392 – जो कोई लूट करेगा , वह कठिन कारावास से , जिसकी अवधि दस वर्ष तक की हो सकेगी ,दण्डित किया जायेगा , और जुर्माने से भी दण्डित किया जायेगा और यदि लूट राज्यमार्ग पर सूर्यास्त या सूर्योदय के बीच की जाये तो कारावास चौदह वर्ष तक का हो सकेगा .

लूट करने का प्रयत्न 

धारा 393 – जो कोई लूट करने का प्रयत्न करेगा वह कठिन कारावास से जिसकी अवधि सात वर्ष तक हो सकेगी दण्डित किया जायेगा और जुर्माने से भी दण्डित किया जायेगा .

लूट करने में स्वेच्छया उपहति करीत करना 

धारा 394 –यदि कोई लूट करने में या लूट का प्रयत्न करने में स्वेच्छया उपहति कारित करेगा ,तो ऐसा व्यक्ति और जो कोई अन्य व्यक्ति ऐसी लूट करने में या लूट का प्रयत्न करने में सहायता करता वह आजीवन कारावास से या कठिन कारावास से जिसकी अवधि दस वर्ष तक हो सकेगी दण्डित किया जायेगा और जुर्माने से भी दंडित किया जायेगा .

भारतीय दंड संहिता की धारा 390 (लूट) की परिभाषा एवं लूट करने का दंड ओरिजनल बुक के अनुसार नीचे पीडीएफ फाइल में देखिये .

 Madhyprdesh ki nadiya | मध्यप्रदेश की नदिया

BUY

 Madhyprdesh ki nadiya | मध्यप्रदेश की नदिया

BUY

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here