Dhara 306 kya hai | 306 ipc in hindi | आत्महत्या का दुष्प्रेरण

आज के इस आर्टिकल में मै आपको“Dhara 306 kya hai | 306 ipc in hindi | आत्महत्या का दुष्प्रेरण/strong के विषय में बताने जा रहा हूँ आशा करता हूँ मेरा यह प्रयास आपको जरुर पसंद आएगा । तो चलिए जानते है की –

Dhara 306 kya hai | 306 ipc in hindi | आत्महत्या का दुष्प्रेरण

भारतीय दंड संहिता की धारा 306 के अनुसार-

आत्महत्या का दुष्प्रेरण-

यदि कोई व्यक्ति आत्महत्या करे, तो जो कोई ऐसी आत्महत्या का दुष्प्रेरण करेगा, दोनों में से किसी भांति के कारावास से, जिसकी अवधि दस वर्ष तक की हो सकेगी, दण्डित किया जाएगा और जुर्माने से भी दण्डनीय होगा।

306 ipc in English

Abetment of suicide.—

If any person commits suicide, whoever abets the commission of such suicide, shall be punished with imprisonment of either description for a term which may extend to ten years, and shall also be liable to fine.

यदि आपका ”Dhara 306 | 306 ipc in hindi | आत्महत्या का दुष्प्रेरण “से सम्बंधित कोई प्रश्न है तो आप कमेट के माध्यम से हम से पूछ सकते हैं ।

 Madhyprdesh ki nadiya | मध्यप्रदेश की नदिया

BUY

 Madhyprdesh ki nadiya | मध्यप्रदेश की नदिया

BUY

 

Updated: November 2, 2019 — 3:10 pm

Leave a Reply

Your email address will not be published.