धारा 85 क्या है | 85 Ipc in Hindi | IPC Section 85

आज के इस आर्टिकल में मै आपको “ भारतीय दंड संहिता की धारा 85 क्या है | 85 Ipc in Hindi | IPC Section 85  के विषय में बताने जा रहा हूँ आशा करता हूँ मेरा यह प्रयास आपको जरुर पसंद आएगा । तो चलिए जानते है की –

भारतीय दंड संहिता की धारा 85 क्या है | 85 Ipc in Hindi

[ Ipc Sec. 85 ] हिंदी में –

ऐसे व्यक्ति का कार्य जो अपनी इच्छा के विरुद्ध मत्तता में होने के कारण निर्णय पर पहुंचने में असमर्थ है-

कोई बात अपराध नहीं है, जो ऐसे व्यक्ति द्वारा की जाती है, जो उसे करते समय मत्तता के कारण उस कार्य की प्रकृति, या यह कि जो कुछ वह कर रहा है वह दोषपूर्ण या विधि के प्रतिकूल है, जानने में असमर्थ है, परन्तु यह तब जब कि वह चीज, जिससे उसकी मत्तता हुई थी, उसके अपने ज्ञान के बिना या इच्छा के बिना या इच्छा के विरुद्ध दी गई थी।

[ Ipc Sec. 85 ] अंग्रेजी में –

“Act of a person incapable of judgment by reason of intoxica­tion caused against his will ”–

Nothing is an offence which is done by a person who, at the time of doing it, is, by reason of intoxication, incapable of knowing the nature of the act, or that he is doing what is either wrong, or contrary to law; provided that the thing which intoxicated him was administered to him without his knowledge or against his will.

Updated: March 22, 2020 — 2:11 pm

Leave a Reply

Your email address will not be published.