Home LAW धारा 460 क्या है | 460 IPC in Hindi | IPC Section...

धारा 460 क्या है | 460 IPC in Hindi | IPC Section 460

2444
0
460 Ipc in Hindi

आज के इस आर्टिकल में मै आपको “रात्रौ प्रच्छन्न गृह-अतिचार या रात्रौ गृह भेदन में संयुक्ततः सम्पृक्त्त समस्त व्यक्ति दंडनीय हैं, जबकि उनमें से एक दारा मृत्यु या घोर उपहति कारित हो | भारतीय दंड संहिता की धारा 460 क्या है | 460 Ipc in Hindi | IPC Section 460 |  All persons jointly concerned in lurking house-trespass or house-breaking by night punishable where death or grievous hurt caused by one of them के विषय में बताने जा रहा हूँ आशा करता हूँ मेरा यह प्रयास आपको जरुर पसंद आएगा । तो चलिए जानते है की –

भारतीय दंड संहिता की धारा 460 क्या है | 460 Ipc in Hindi

[ Ipc Sec. 460 ] हिंदी में –

रात्रौ प्रच्छन्न गृह-अतिचार या रात्रौ गृह भेदन में संयुक्ततः सम्पृक्त्त समस्त व्यक्ति दंडनीय हैं, जबकि उनमें से एक दारा मृत्यु या घोर उपहति कारित हो–

यदि रात्रौ प्रच्छन्न गृह-अतिचार या रात्रौ गृह-भेटन करते समय ऐसे अपराध का दोषी कोई व्यक्ति स्वेच्छया किसी व्यक्ति की मृत्यु या घोर उपहति कारित करेगा या मृत्यु या घोर उपहति कारित करने का प्रयत्न करेगा, तो ऐसे रात्री प्रच्छन्न गृह-अतिचार या रात्री गृह-भेदन करने में संयुक्ततः सम्पृक्त हर व्यक्ति, ‘[आजीवन कारावास] से. या दोनों में से किसी भांति के कारावास से, जिसकी अवधि दस वर्ष तक की हो सकेगी, दंडित किया जाएगा और जुर्माने से भी दंडनीय होगा ।

460 Ipc in Hindi

[ Ipc Sec. 460 ] अंग्रेजी में –

“   All persons jointly concerned in lurking house-trespass or house-breaking by night punishable where death or grievous hurt caused by one of them ”–

If, at the time of the committing of lurking house-trespass by night or house-breaking by night, any person guilty of such offence shall voluntarily cause or attempt to cause death or grievous hurt to any person, every person jointly concerned in committing such lurking house-trespass by night or house-breaking by night, shall be punished with 1[im­prisonment for life], or with imprisonment of either description for a term which may extend to ten years, and shall also be liable to fine.

460 Ipc in Hindi

Previous articleधारा 459 क्या है | 459 IPC in Hindi | IPC Section 459
Next articleधारा 461 क्या है | 461 IPC in Hindi | IPC Section 461

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here