Home LAW धारा 459 क्या है | 459 IPC in Hindi | IPC Section...

धारा 459 क्या है | 459 IPC in Hindi | IPC Section 459

3361
0

आज के इस आर्टिकल में मै आपको “प्रच्छन्न गृह-अतिचार या गृह-भेदन करते समय घोर उपहति कारित हो | भारतीय दंड संहिता की धारा 459 क्या है | 459 Ipc in Hindi | IPC Section 459 | Grievous hurt caused whilst committing lurking house tres­pass or house-breaking के विषय में बताने जा रहा हूँ आशा करता हूँ मेरा यह प्रयास आपको जरुर पसंद आएगा । तो चलिए जानते है की –

भारतीय दंड संहिता की धारा 459 क्या है | 459 Ipc in Hindi

[ Ipc Sec. 459 ] हिंदी में –

प्रच्छन्न गृह-अतिचार या गृह-भेदन करते समय घोर उपहति कारित हो–

जो कोई प्रच्छन्न गृह-अतिचार या गृह-भेदन करते समय किसी व्यक्ति को घोर उपहति कारित करेगा या किसी व्यक्ति की मृत्यु या घोर उपहति कारित करने का प्रयत्न करेगा, वह ‘[आजीवन कारावास] से, या दोनों में से किसी भांति के कारावास से, जिसकी अवधि दस वर्ष तक की हो सकेगी, दंडित किया जाएगा और जुर्माने से भी दंडनीय होगा ।

459 Ipc in Hindi

[ Ipc Sec. 459 ] अंग्रेजी में –

“  Grievous hurt caused whilst committing lurking house tres­pass or house-breaking ”–

Whoever, whilst committing lurking house-trespass or house-breaking, causes grievous hurt to any person or attempts to cause death or grievous hurt to any person, shall be punished with 1[imprisonment for life], or imprisonment of either description for a term which may extend to ten years, and shall also be liable to fine.

459 Ipc in Hindi

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here