Home LAW धारा 381 क्या है | 381 ipc in hindi | Dhara 381

धारा 381 क्या है | 381 ipc in hindi | Dhara 381

507
0
381 ipc

आज के इस आर्टिकल में मै आपको “ लिपिक या सेवक द्वारा स्वामी के कब्जे की सम्पत्ति की चोरी | धारा 381 क्या है | 381 ipc in hindi | Dhara 381  ” के विषय में बताने जा रहा हूँ आशा करता हूँ मेरा यह प्रयास आपको जरुर पसंद आएगा । तो चलिए जानते है की –

लिपिक या सेवक द्वारा स्वामी के कब्जे की सम्पत्ति की चोरी | धारा 381 क्या है | 381 ipc in hindi | Dhara 381

भारतीय दंड संहिता की धारा 381 के अनुसार – ” लिपिक या सेवक द्वारा स्वामी के कब्जे की सम्पत्ति की चोरी “

381 ipc – लिपिक या सेवक द्वारा स्वामी के कब्जे की सम्पत्ति की चोरी-जो कोई लिपिक या सेवक होते हुए, या लिपिक या सेवक की हैसियत में नियोजित होते हए, अपने मालिक या नियोक्ता के कब्जे की किसी सम्पत्ति की चोरी करेगा, वह दोनों में से किसी भांति के कारावास से, जिसकी अवधि सात वर्ष तक की हो सकेगी, दण्डित किया जाएगा, और जुर्माने से भी दण्डनीय होगा।

Section 381 in The Indian Penal Code

381. Theft by clerk or servant of property in possession of master.—Whoever, being a clerk or servant, or being employed in the capacity of a clerk or servant, commits theft in respect of any property in the possession of his master or employer, shall be punished with imprisonment of either description for a term which may extend to seven years, and shall also be liable to fine.

यदि आपका ” लिपिक या सेवक द्वारा स्वामी के कब्जे की सम्पत्ति की चोरी | धारा 381 क्या है | 381 ipc in hindi | Dhara 381 से सम्बंधित कोई प्रश्न है तो आप कमेट के माध्यम से हम से पूछ सकते हैं ।

 Madhyprdesh ki nadiya | मध्यप्रदेश की नदियाBUY Madhyprdesh ki nadiya | मध्यप्रदेश की नदियाBUY

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here