Home LAW धारा 235 क्या है | 235 IPC in Hindi | IPC Section...

धारा 235 क्या है | 235 IPC in Hindi | IPC Section 235

2580
0

आज के इस आर्टिकल में मै आपको “सिक्के के कुटकरण के लिए उपकरण या सामग्री उपयोग में लाने के प्रयोजन से उसे कब्जे में रखना | भारतीय दंड संहिता की धारा 235 क्या है | 235 Ipc in Hindi | IPC Section 235 | Possession of instrument, or material for the purpose of using the same for counterfeiting coin के विषय में बताने जा रहा हूँ आशा करता हूँ मेरा यह प्रयास आपको जरुर पसंद आएगा । तो चलिए जानते है की –

भारतीय दंड संहिता की धारा 235 क्या है | 235 Ipc in Hindi

[ Ipc Sec. 235 ] हिंदी में –

सिक्के के कुटकरण के लिए उपकरण या सामग्री उपयोग में लाने के प्रयोजन से उसे कब्जे में रखना-

जो कोई किसी उपकरण या सामग्री को सिक्के के कूटकरण में उपयोग में लाए जाने के प्रयोजन से या यह जानते हुए या यह विश्वास करने का कारण रखते हुए वह उस प्रयोजन के लिए उपयोग में लाए जाने के लिए आशयित है. अपने कब्जे में रखेगा, वह दोनों में से किसी भांति के कारावास से, जिसकी अवधि तीन वर्ष तक की हो सकेगी, दंडित किया जाएगा और जुर्माने से भी दंडनीय होगा ;

यदि भारतीय सिक्का हो–और यदि कूटकरण किया जाने वाला सिक्का भारतीय सिक्का] हो, तो वह दोनों में से किसी भांति के कारावास से, जिसकी अवधि दस वर्ष तक की हो सकेगी, दंडित किया जाएगा और जुर्माने से भी दंडनीय होगा |

235 Ipc in Hindi

[ Ipc Sec. 235 ] अंग्रेजी में –

“ Possession of instrument, or material for the purpose of using the same for counterfeiting coin ”–

Whoever is in possession of any instrument or material, for the purpose of using the same for counterfeiting coin, or knowing or having reason to believe that the same is intended to be used for that purpose, shall be punished with imprisonment of either descrip­tion for a term which may extend to three years, and shall also be liable to fine; if Indian coin.—and if the coin to be counterfeited is 1[Indian coin], shall be punished with imprisonment of either description for a term which may extend to ten years, and shall also be liable to fine.

235 Ipc in Hindi

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here