Home LAW धारा 83 सम्पत्ति अन्तरण | Section 83 of Transfer of property Act...

धारा 83 सम्पत्ति अन्तरण | Section 83 of Transfer of property Act Hindi

1347
0
Section 83 of Transfer of property Act

आज के इस आर्टिकल में मै आपको “बन्धक मद्दे शोध्य धन का न्यायालय में निक्षेप करने की शक्ति  | सम्पत्ति अन्तरण अधिनियम की धारा 83 क्या है | Section 83 Transfer of property Act in hindi | Section 83 of Transfer of property Act | धारा 83 सम्पत्ति अन्तरण अधिनियम | Power to deposit in Court money due on mortgage के विषय में बताने जा रहा हूँ आशा करता हूँ मेरा यह प्रयास आपको जरुर पसंद आएगा । तो चलिए जानते है की –

सम्पत्ति अन्तरण अधिनियम की धारा 83 |  Section 83 of Transfer of property Act | Section 83 Transfer of property Act in Hindi

[ Transfer of property Act Section 83 in Hindi ] –

बन्धक मद्दे शोध्य धन का न्यायालय में निक्षेप करने की शक्ति—

किसी बन्धक के बारे में देय मूलधन के शोध्य हो जाने के पश्चात् और बन्धक-सम्पत्ति के मोचन के लिए वाद वर्जित हो जाने से पहले किसी भी समय बन्धककर्ता या ऐसा वाद संस्थित करने के लिए हकदार कोई भी अन्य व्यक्ति ऐसे किसी भी न्यायालय में, जिसमें वह ऐसा वाद संस्थित कर सकता था, उस बन्धक के बारे में शोध्य अवशिष्ट राशि का बन्धकदार के नाम निक्षेप कर सकेगा।

बन्धककर्ता द्वारा निक्षिप्त धन पर अधिकार तदुपरि न्यायालय निक्षेप की लिखित सूचना की तामील बन्धकदार पर कराएगा और बन्धकदार (वादपत्रों के सत्यापन के लिए विधि-विहित प्रकार से सत्यापित) ऐसी अर्जी पेश करने पर, जिसमें बन्धक मद्धे तब शोध्य रकम और इस तरह निक्षिप्त धन को ऐसी रकम के पूर्णतः भुगतान में प्रतिगृहीत करने के लिए उसकी अपनी रजामन्दी कथित हो और उसी न्यायालय में बन्धक विलेख और बन्धक-सम्पत्ति सम्बन्धी सब दस्तावेजों को, जो उसके अपने कब्जे या शक्ति में हों.] निक्षिप्त करने पर उस धन के लिए आवेदन कर सकेगा और उसे प्राप्त कर सकेगा तथा ऐसे निक्षिप्त बन्धक विलेख और अन्य सब ऐसी दस्तावेजें] बन्धककर्ता या यथापूर्वोक्त अन्य व्यक्ति को परिदत्त कर दी जाएंगी।

जहां कि बन्धक-सम्पत्ति बन्धकदार के कब्जे में है, वहां न्यायालय ऐसी निक्षिप्त रकम का उसे संदाय करने से पहले उसे यह निदेश देगा कि वह बन्धककर्ता को उसका कब्जा परिदत्त करे और बन्धककर्ता के खर्च पर या तो बन्धक-सम्पत्ति बन्धककर्ता को या ऐसे अन्य व्यक्ति को, जिसे बन्धककर्ता निदेशित करे, प्रति-अन्तरित करे या यह लेखबद्ध अभिस्वीकृति कि ऐसा कोई अधिकार, जो बन्धककर्ता के उस हित का अल्पीकरण करता है जो बन्धकदार को अन्तरित किया गया है, निर्वापित हो गया है. निष्पादित करे और (जहां कि बन्धक रजिस्ट्रीकृत लिखत द्वारा किया गया है। रजिस्ट्रीकृत कराए।

धारा 83 Transfer of property Act

[ Transfer of property Act Sec. 83 in English ] –

Power to deposit in Court money due on mortgage”–

At any time after the principal money 4[payable in respect of any mortgage has become due] and before a suit for redemption of the mortgaged property is barred, the mortgagor, or any other person entitled to institute such suit, may deposit, in any Court in which he might have instituted such suit, to the account of the mortgagee, the amount remaining due on the mortgage. 

Right to money deposited by mortgagor.—The Court shall thereupon cause written notice of the deposit to be served on the mortgagee, and the mortgagee may, on presenting a petition (verified in manner prescribed by 5law for the verification of plaints) stating the amount then due on the mortgage, and his willingness to accept the money so deposited in full discharge of such amount, and-on depositing in the same Court the mortgage-deed 6[and all documents in his possession or power relating to the mortgaged property], apply for and receive the money, and the mortgage-deed, 7[and all such other documents], so deposited hail be delivered to the mortgagor or such other person as aforesaid. 

7[Where the mortgagee is in possession of the mortgaged. property, the Court shall, before paying to him the amount so deposited direct him to deliver possession thereof to the mortgagor and at the cost of the mortgagor either to re-transfer the mortgaged property to the mortgagor or to such third person as the mortgagor may direct or to execute and (where the mortgage has been effected by a registered instrument) have registered an acknowledgment in writing that any right in derogation of the mortgagor’s interest transferred to the mortgagee has been extinguished.

धारा 83 Transfer of property Act 

सम्पत्ति अन्तरण अधिनियम  

Pdf download in hindi

Transfer of property Act

Pdf download in English 

Pocso Act sections list Domestic violence act sections list

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here