Home LAW धारा 52 संविदा अधिनियम | Section 52 Indian Contract act in Hindi

धारा 52 संविदा अधिनियम | Section 52 Indian Contract act in Hindi

2040
0

आज के इस आर्टिकल में मै आपको “व्यतिकारी वचनों के पालन का क्रम | भारतीय संविदा अधिनियम की धारा 52 क्या है | Section 52 Indian Contract act in Hindi | Section 52 of Indian Contract act | धारा 52 भारतीय संविदा अधिनियम | Order of performance of reciprocal promisesके विषय में बताने जा रहा हूँ आशा करता हूँ मेरा यह प्रयास आपको जरुर पसंद आएगा । तो चलिए जानते है की –

भारतीय संविदा अधिनियम की धारा 52 |  Section 52 of Indian Contract act

[ Indian Contract act Sec. 52 in Hindi ] –

व्यतिकारी वचनों के पालन का क्रम-

जहां कि वह क्रम जिससे ब्यतिकारी वचनों का पालन किया जाना है, संविदा द्वारा अभिव्यक्तत: नियत हो वहां उनका पालन उसी क्रम से किया जाएगा और जहां कि वह क्रम संविदा द्वारा अभिव्यक्तत: नियत न हो वहां उनका पालन उस क्रम से किया जाएगा जो उस संव्यवहार की प्रकृति द्वारा अपेक्षित हो।

दृष्टांत

(क) क और ख संविदा करते हैं कि क नियत कीमत पर ख के लिए एक गृह बनाएगा। क को गृह बनाने के वचन का पालन ख द्वारा उसके लिए संदाय के वचन के पालन से पहले करना होगा।

(ख) क और ख संविदा करते हैं कि क अपना व्यापार-स्टाक एक नियत कीमत पर ख को दे देगा, और ख धन के संदाय के लिए प्रतिभूति देने का वचन देता है । क के वचन का पालन किया जाना तब तक आवश्यक नहीं है जब तक प्रतिभूति न दे दी जाए, क्योंकि इस संव्यवहार की प्रकृति यह अपेक्षा करती है कि अपने व्यापार-स्टाक का परिदान करने से पूर्व क को प्रतिभूति मिलनी चाहिए।

धारा 52 Indian Contract act

[ Indian Contract act Sec. 52  in English ] –

“Order of performance of reciprocal promises”–

Where the order in which reciprocal promises are to be performed is expressly fixed by the contract, they shall be performed in that order; and where the order is not expressly fixed by the contract, they shall be performed in that order which the nature of the transaction requires.

Illustrations

(a) A and B contract that A shall build a house for B at a fixed price. A‟s promise to build the house must be performed before B‟s promise to pay for it.

(b) A and B contract that A shall make over his stock-in-trade to B at a fixed price, and B promises to give security for the payment of the money. A‟s promise need not be performed until the security is given, for the nature of the transaction requires that A should have security before he delivers up his stock.

धारा 52 Indian Contract act

भारतीय संविदा अधिनियम 

Pdf download in hindi

Indian contract act 

Pdf download in English 

Section 1 of limitation act Section 1 of limitation act

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here