Home LAW धारा 478 CrPC | Section 478 CrPC in Hindi | CrPC Section...

धारा 478 CrPC | Section 478 CrPC in Hindi | CrPC Section 478

2123
0

आज के इस आर्टिकल में मै आपको “कुछ दशाओं में कार्यपालक मजिस्ट्रेटों को सौंपे गए कृत्यों को परिवर्तित करने की शक्ति | दंड प्रक्रिया संहिता की धारा 478 क्या है | section 478 CrPC in Hindi | Section 478 in The Code Of Criminal Procedure | CrPC Section 478 | Power to alter functions allocated to Executive Magistrates in certain casesके विषय में बताने जा रहा हूँ आशा करता हूँ मेरा यह प्रयास आपको जरुर पसंद आएगा । तो चलिए जानते है की –

दंड प्रक्रिया संहिता की धारा 478 |  Section 478 in The Code Of Criminal Procedure

[ CrPC Sec. 478 in Hindi ] –

कुछ दशाओं में कार्यपालक मजिस्ट्रेटों को सौंपे गए कृत्यों को परिवर्तित करने की शक्ति-

यदि किसी राज्य का विधानमंडल संकल्प द्वारा ऐसी अनुज्ञा देता है तो राज्य सरकार, उच्च न्यायालय से परामर्श करने के पश्चात्, अधिसूचना द्वारा यह निदेश दे सकेगी कि धारा 108, 109, 110, 145 और 147 में किसी कार्यपालक मजिस्ट्रेट के प्रति निर्देश का अर्थ यह लगाया जाएगा कि वह किसी प्रथम वर्ग न्यायिक मजिस्ट्रेट के प्रति निर्देश है।

धारा 478 CrPC

[ CrPC Sec. 478 in English ] –

“Power to alter functions allocated to Executive Magistrates in certain cases”–

If the Legislative Assembly of a State by a resolution so permits, the State Government may, after consultation with High Court, by notification, direct that references in sections 108, 109, 110, 145 and 147 to an Executive Magistrate shall be construed as references to a Judicial Magistrate of the first class.

धारा 478 CrPC

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here