Home LAW धारा 385 CrPC | Section 385 CrPC in Hindi | CrPC Section...

धारा 385 CrPC | Section 385 CrPC in Hindi | CrPC Section 385

1874
0

आज के इस आर्टिकल में मै आपको “संक्षेपत: खारिज न की गई अपीलों की सुनवाई के लिए प्रक्रिया | दंड प्रक्रिया संहिता की धारा 385 क्या है | section 385 CrPC in Hindi | Section 385 in The Code Of Criminal Procedure | CrPC Section 385 | Procedure for hearing appeals not dismissed summarilyके विषय में बताने जा रहा हूँ आशा करता हूँ मेरा यह प्रयास आपको जरुर पसंद आएगा । तो चलिए जानते है की –

दंड प्रक्रिया संहिता की धारा 385 |  Section 385 in The Code Of Criminal Procedure

[ CrPC Sec. 385 in Hindi ] –

संक्षेपत: खारिज न की गई अपीलों की सुनवाई के लिए प्रक्रिया–

(1) यदि अपील न्यायालय अपील को संक्षेपतः खारिज नहीं करता है तो वह उस समय और स्थान की, जब और जहां ऐसी अपील सुनी जाएगी, सूचना

(1) अपीलार्थी या उसके प्लीडर को; (ii) ऐसे अधिकारी को, जिसे राज्य सरकार इस निमित्त नियुक्त करे: (iii) यदि परिवाद पर संस्थित मामले में दोषसिद्ध के निर्णय के विरुद्ध अपील की गई है, तो परिवादी को;

(iv) यदि अपील धारा 377 या धारा 378 के अधीन की गई है तो अभियुक्त को, दिलवाएगा और ऐसे अधिकारी, परिवादी और अभियुक्त को अपील के आधारों की प्रतिलिपि भी देगा।

(2) यदि अपील न्यायालय में मामले का अभिलेख, पहले से ही उपलभ्य नहीं है तो वह न्यायालय ऐसा अभिलेख मंगाएगा और पक्षकारों को सुनेगा :

परन्तु यदि अपील केवल दंड के परिमाण या उसकी वैधता के बारे में है तो न्यायालय अभिलेख मंगाए बिना ही अपील का निपटारा कर सकता है।

(3) जहां दोषसिद्धि के विरुद्ध अपील का आधार केवल दंडादेश की अभिकथित कठोरता है वहां अपीलार्थी न्यायालय की इजाजत के बिना अन्य किसी आधार के समर्थन में न तो कहेगा और न उसे उसके समर्थन में सुना ही जाएगा।

धारा 385 CrPC

[ CrPC Sec. 385 in English ] –

“Procedure for hearing appeals not dismissed summarily ”–

(1) If the Appellate Court does not dismiss the appeal summarily, it shall cause notice of the time and place at which such appeal will be heard to be given-

(i) to the appellant or his pleader;
(ii) to such officer as the State Government may appoint in this behalf;
(iii) if the appeal is from a judgment of conviction in a case instituted upon complaint, to the complainant;
(iv) if the appeal is under section 377 or section 378, to the accused, and shall also furnish such officer, complainant and accused with a copy of the grounds of appeal.
(2) The Appellate Court shall then send for the record of the case, if such record is not already available in that Court, and hear the parties: Provided that if the appeal is only as to the extent or the legality of the sentence, the Court may dispose of the appeal without sending for the record.
(3) Where the only ground for appeal from a conviction is the alleged severity of the sentence, the appellant shall not, except with the leave of the Court, urge or be heard in support of any other ground.

धारा 385 CrPC

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here