Home LAW धारा 242 CrPC | Section 242 CrPC in Hindi | CrPC Section...

धारा 242 CrPC | Section 242 CrPC in Hindi | CrPC Section 242

3307
0

आज के इस आर्टिकल में मै आपको “अभियोजन के लिए साक्ष्य | दंड प्रक्रिया संहिता की धारा 242 क्या है | section 242 CrPC in Hindi | Section 242 in The Code Of Criminal Procedure | CrPC Section 242 | Evidence for prosecution के विषय में बताने जा रहा हूँ आशा करता हूँ मेरा यह प्रयास आपको जरुर पसंद आएगा । तो चलिए जानते है की –

दंड प्रक्रिया संहिता की धारा 242 |  Section 242 in The Code Of Criminal Procedure

[ CrPC Sec. 242 in Hindi ] –

अभियोजन के लिए साक्ष्य-

(1) यदि अभियुक्त अभिवचन करने से इनकार करता है या अभिवचन नहीं करता है या विचारण किए जाने का दावा करता है या मजिस्ट्रेट अभियुक्त को धारा 241 के अधीन दोषसिद्ध नहीं करता है तो वह मजिस्ट्रेट साक्षियों की परीक्षा के लिए तारीख नियत करेगा।

[परंतु मजिस्ट्रेट अभियुक्त को पुलिस द्वारा अन्वेषण के दौरान अभिलिखित किए गए साक्षियों के कथन अग्रिम रूप से प्रदाय करेगा।]

(2) मजिस्ट्रेट अभियोजन के आवेदन पर उसके साक्षियों में से किसी को हाजिर होने या कोई दस्तावेज या अन्य चीज पेश करने का निदेश देने वाला समन जारी कर सकता है।

(3) ऐसी नियत तारीख पर मजिस्ट्रेट ऐसा सब साक्ष्य लेने के लिए अग्रसर होगा जो अभियोजन के समर्थन में पेश किया जाता है :

परन्तु मजिस्ट्रेट किसी साक्षी की प्रतिपरीक्षा तब तक के लिए, जब तक किसी अन्य साक्षी या साक्षियों की परीक्षा नहीं कर ली जाती है, आस्थगित करने की अनुज्ञा दे सकेगा या किसी साक्षी को अतिरिक्त प्रतिपरीक्षा के लिए पुनः बुला सकेगा।

धारा 242 CrPC

[ CrPC Sec. 242 in English ] –

“ Evidence for prosecution ”–

(1) If the accused refuses to plead or does not plead, or claims to be tried or the Magistrate does not convict the accused under section 241, the Magistrate shall fix a date for the examination of witnesses.
(2) The Magistrate may, on the application of the prosecution, issue a summons to any of its witnesses directing him to attend or to produce any document or other thing.
(3) On the date so fixed, the Magistrate shall proceed to take all such evidence as may be produced in support of the prosecution: Provided that the Magistrate may permit the cross- examination of any witness to be deferred until any other witness or witnesses have been examined or recall any witness for further cross- examination.

धारा 242 CrPC

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here