धारा 15 एससी एसटी Act | Section 15 SC ST Act in Hindi

आज के इस आर्टिकल में मै आपको “विशेष लोक अभियोजक | अनुसूचित जाति और अनुसूचित जनजाति (अत्याचार निवारण ) अधिनियम की धारा 15 क्या है | Section 15 SC ST Act in hindi | Section 15 of SC ST Act | धारा 15 अनुसूचित जाति और अनुसूचित जनजाति (अत्याचार निवारण) अधिनियम | Special Public Prosecutor” के विषय में बताने जा रहा हूँ आशा करता हूँ मेरा यह प्रयास आपको जरुर पसंद आएगा । तो चलिए जानते है की –

अनुसूचित जाति और अनुसूचित जनजाति (अत्याचार निवारण) अधिनियम की धारा 15 |  Section 15 of SC ST Act

[ SC ST Act Sec. 15 in Hindi ] –

विशेष लोक अभियोजक-

राज्य सरकार, प्रत्येक विशेष न्यायालय के लिए, राजपत्र में अधिसूचना द्वारा, एक लोक अभियोजक विनिर्दिष्ट करेगी या किसी ऐसे अधिवक्ता को, जिसने कम से कम सात वर्ष तक अधिवक्ता के रूप में विधि व्यवसाय । किया हो, उस न्यायालय में मामलों के संचालन के प्रयोजन के लिए विशेष लोक, अभियोजक के रूप में नियुक्त करेगी।

धारा 15 SC ST Act

[ SC ST Act Sec. 15 in English ] –

“Special Public Prosecutor”–

For every Special Court, the State Government shall, by notification in the Official Gazette, specify a Public Prosecutor or appoint an advocate who has been in practice as an advocate for not less than seven years, as a Special Public Prosecutor for the purpose of conducting cases in that court.

धारा 15 SC ST Act

अनुसूचित जाति और अनुसूचित जनजाति (अत्याचार निवारण) अधिनियम  

Pdf download in hindi

SC ST Act

Pdf download in English 

Pocso Act sections listDomestic violence act sections list
Updated: May 19, 2020 — 2:06 pm

Leave a Reply

Your email address will not be published.