धारा 12 घरेलू हिंसा | Section 12 Domestic violence act in Hindi

आज के इस आर्टिकल में मै आपको “मजिस्ट्रेट को आवेदन | घरेलू हिंसा अधिनियम की धारा 12 क्या है | Section 12 Domestic violence act in Hindi | Section 12 of Domestic violence act | धारा 12 घरेलू हिंसा अधिनियम | Application to Magistrate के विषय में बताने जा रहा हूँ आशा करता हूँ मेरा यह प्रयास आपको जरुर पसंद आएगा । तो चलिए जानते है की –

घरेलू हिंसा अधिनियम की धारा 12 |  Section 12 of Domestic violence act

[ Domestic violence act Sec. 12 in Hindi ] –

मजिस्ट्रेट को आवेदन.-

(1) कोई व्यथित व्यक्ति या संरक्षण अधिकारी या व्यथित की ओर से कोई अन्य व्यक्ति, इस अधिनियम के अधीन एक या अधिक अनुतोष प्राप्त करने के लिए मजिस्ट्रेट को आवेदन प्रस्तुत कर सकेगा:

परन्तु मजिस्ट्रेट, ऐसे आवेदन पर कोई आदेश पारित करने से पहले, संरक्षण अधिकारी या सेवा प्रदाता से उसके द्वारा प्राप्त, किसी घरेलू हिंसा की रिपोर्ट पर विचार करेगा।

(2) उपधारा (1) के अधीन ईप्सित किसी अनुतोष में वह अनुतोष भी सम्मिलित हो सकेगा जिसके लिए किसी प्रत्यर्थी द्वारा की गई घरेलू हिंसा के कार्यों द्वारा कारित की गई क्षतियों के लिए प्रतिकर या नुकसान के लिए वाद संस्थित करने के ऐसे व्यक्ति के अधिकार पर प्रतिकूल प्रभाव डाले बिना, किसी प्रतिकर या नुकसान के संदाय के लिए कोई आदेश जारी किया जाता है:

परन्तु जहाँ किसी न्यायालय द्वारा, प्रतिकर या नुकसानी के रूप में किसी रकम के लिए, व्यथित व्यक्ति के पक्ष में कोई डिक्री पारित की गई है यदि इस अधिनियम के अधीन, मजिस्ट्रेट द्वारा किए गए किसी आदेश के अनुसरण में कोई रकम संदत्त की गई है या संदेय है तो ऐसी डिक्री के अधीन संदेय रकम के विरुद्ध मुजरा होगी और सिविल प्रक्रिया संहिता, 1908 में या तत्समय प्रवृत्त किसी अन्य विधि में किसी बात के होते हुए भी, वह डिक्री, इस प्रकार मुजरा किए जाने के पश्चात् अतिशेष रकम के लिए, यदि कोई हो, निष्पादित की जाएगी।

(3) उपधारा (1) के अधीन प्रत्येक आवेदन, ऐसे प्ररूप में और ऐसी विशिष्टयाँ जो विहित की जाएं या यथासम्भव उसके निकटतम रूप में अन्तर्विष्ट होगा।

(4) मजिस्ट्रेट, सुनवाई की पहली तारीख नियत करेगा जो न्यायालय द्वारा आवेदन की प्राप्ति की तारीख से सामान्यत: तीन दिन से अधिक नहीं होगी।

(5) मजिस्ट्रेट, उपधारा (1) के अधीन दिए गए प्रत्येक आवेदन का, प्रथम सुनवाई की तारीख से साठ दिन की अवधि के भीतर निपटारा करने का प्रयास करेगा।

धारा 12 Domestic violence act

[ Domestic violence act Sec. 12 in English ] –

Application to Magistrate ”–

(1) An aggrieved person or a Protection Officer or any other person on behalf of the aggrieved person may present an application to the Magistrate seeking one or more reliefs under this Act: 

Provided that before passing any order on such application, the Magistrate shall take into consideration any domestic incident report received by him from the Protection Officer or the service provider. 

(2) The relief sought for under sub-section (1) may include a relief for issuance of an order for payment of compensation or damages without prejudice to the right of such person to institute a suit for compensation or damages for the injuries caused by the acts of domestic violence committed by the respondent: 

Provided that where a decree for any amount as compensation or damages has been passed by any court in favour of the aggrieved person, the amount, if any, paid or payable in pursuance of the order made by the Magistrate under this Act shall be set off against the amount payable under such decree and the decree shall, notwithstanding anything contained in the Code of Civil Procedure, 1908 (5 of 1908), or any other law for the time being in force, be executable for the balance amount, if any, left after such set off. 

(3) Every application under sub-section (1) shall be in such form and contain such particulars as may be prescribed or as nearly as possible thereto. 

(4) The Magistrate shall fix the first date of hearing, which shall not ordinarily be beyond three days from the date of receipt of the application by the court. 

(5) The Magistrate shall Endeavour to dispose of every application made under sub-section (1) within a period of sixty days from the date of its first hearing.

धारा 12 Domestic violence act

घरेलू हिंसा अधिनियम 

Pdf download in hindi

Domestic violence act 

Pdf download in English 

Dowry prohibition act 1961 PDFDowry prohibition act 1961 PDF
Updated: May 13, 2020 — 6:04 pm

Leave a Reply

Your email address will not be published.