Home LAW धारा 117 CrPC | Section 117 CrPC in Hindi | CrPC Section...

धारा 117 CrPC | Section 117 CrPC in Hindi | CrPC Section 117

2677
0
section 117 CrPC in Hindi

आज के इस आर्टिकल में मै आपको “ प्रतिभूति देने का आदेश | दंड प्रक्रिया संहिता की धारा 117 क्या है | section 117 CrPC in Hindi | Section 117 in The Code Of Criminal Procedure | CrPC Section 117 | Order to give security के विषय में बताने जा रहा हूँ आशा करता हूँ मेरा यह प्रयास आपको जरुर पसंद आएगा । तो चलिए जानते है की –

दंड प्रक्रिया संहिता की धारा 117 |  Section 117 in The Code Of Criminal Procedure

[ CrPC Sec. 117 in Hindi ] –

प्रतिभूति देने का आदेश–

यदि ऐसी जांच से यह साबित हो जाता है कि, यथास्थिति, परिशांति कायम रखने के लिए या सदाचार बनाए रखने के लिए यह आवश्यक है कि वह व्यक्ति, जिसके बारे में वह जांच की गई है, प्रतिभुओं सहित या रहित, बंधपत्र निष्पादित करे तो मजिस्ट्रेट तद्नुसार आदेश देगा:

परंतु-

(क) किसी व्यक्ति को उस प्रकार से भिन्न प्रकार की या उस रकम से अधिक रकम की या उस अवधि से दीर्घतर अवधि के लिए प्रतिभूति देने के लिए आदिष्ट न किया जाएगा, जो धारा 111 के अधीन दिए गए आदेश में विनिर्दिष्ट है;

(ख) प्रत्येक बंधपत्र की रकम मामले की परिस्थितियों का सम्यक ध्यान रख कर नियत की जाएगी और अत्यधिक न होगी:

(ग) जब वह व्यक्ति, जिसके बारे में जांच की जाती है, अवयस्क है, तब बंधपत्र केवल उसके प्रतिभुओं द्वारा निष्पादित किया जाएगा।

धारा 117 CrPC

[ CrPC Sec. 117 in English ] –

“ Order to give security ”–

 If, upon such inquiry, it is proved that it is necessary for keeping the peace or maintaining good behaviour, as the case may be, that the person in respect of whom the inquiry is made should execute a bond with or without sureties, the with Magistrate shall make an order accordingly:

Provided that-
(a) no person shall be ordered to give security of a nature different from, or of an amount larger than, or for a period longer than, that specified in the order made under section 111;
(b) the amount of every bond shall be fixed with due regard to the circumstances of the case and shall not be excessive;
(c) when the person in respect of whom the inquiry is made is a minor, the bond shall be executed only by his sureties.

धारा 117 CrPC

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here