एकांत परिरोध की अवधि | Limit of solitary confinement

आज के इस आर्टिकल में मै आपको “ एकांत परिरोध की अवधि | Limit of solitary confinement | 74 Ipc in Hindi ” के विषय में बताने जा रहा हूँ आशा करता हूँ मेरा यह प्रयास आपको जरुर पसंद आएगा । तो चलिए जानते है की –

एकांत परिरोध की अवधि | Limit of solitary confinement | 74 Ipc in Hindi

भारतीय दंड संहिता की धारा 40 के अनुसार- “ एकांत परिरोध की अवधि

एकांत परिरोध के दण्डादेश के निष्पादन में ऐसा परिरोध किसी दशा में भी एक बार में चौदह दिन से अधिक न होगा । साथ ही ऐसे एकांत न की कालावधियों के बीच में उन कालावधियों से अन्यून अंतराल होंगे; और जब दिया गया कारावास तीन मास से अधिक हो, तब दिए गए सम्पूर्ण कारावास के किसी एक मास में एकांत परिरोध सात दिन से अधिक न होगा, साथ ही एकांत परिरोध की कालावधियों के बीच में उन्ही कालावधियों से अन्यून अंतराल होंगे ।

IPC Section 74 – “ Limit of solitary confinement ”

 Limit of solitary confinement.—In executing a sentence of solitary confinement, such confinement shall in no case exceed fourteen days at a time, with intervals between the periods of solitary confinement of not less duration than such periods; and when the imprisonment awarded shall exceed three months, the solitary confinement shall not exceed seven days in any one month of the whole imprisonment awarded, with intervals between the periods of solitary confinement of not less duration than such periods.

यदि आपका ” एकांत परिरोध की अवधि | Limit of solitary confinement | 74 Ipc in Hindi से सम्बंधित कोई प्रश्न है तो आप कमेट के माध्यम से हम से पूछ सकते हैं ।

 Madhyprdesh ki nadiya | मध्यप्रदेश की नदियाBUY Madhyprdesh ki nadiya | मध्यप्रदेश की नदियाBUY
Updated: November 20, 2019 — 9:09 pm

Leave a Reply

Your email address will not be published.