बल्वा क्या है | Balva kya hai | Dhara 146 Ipc

बल्वा क्या है | Balva kya hai | Dhara 146 Ipc

Balva kya hai | Dhara 146 Ipc

इस आर्टिकल में मै आपको भारतीय दंड संहिता की बहुत ही महत्वपूर्ण धारा 146 बल्वा के बारे में बताने का प्रयास कर रहा हूँ . आशा करता हूँ की मेरा यह प्रयास आपको पसंद आएगा . तो चलिए जान लेते हैं की –

बल्वा क्या है ? 

धारा –  146 – जब कभी विधि विरुद्ध जमाव द्वारा या या उसके किसी सदस्य द्वारा ऐसे जमाव के समान उद्देश्य को अग्रसर करने में बल या हिंसा का प्रयोग किया जाता है . तब ऐसे जमाव का हर सदस्य बल्वा करने के अपराध का दोषी होगा .

आवश्यक तत्व –   बल्वा का अपराध गठित होने के लिए निम्नलिखित आवश्यक तत्व होने जरुरी है –

  • व्यक्तियों की संख्या पाँच या पाँच से अधिक हो
  • वे सभी एक समान उद्देश्य को अग्रसर करने के लिए एकत्र हुए हों
  • यह कि उस विविरुद्ध जमाव ने अथवा उसके किसी सदस्य ने उस उद्देश्य को अग्रसर करने के लिए बल या हिंसा का प्रयोग किया हो

बल्वा के लिए दंड

धारा –  147 – जो कोई बल्वा करने का दोषी होगा , वह दोनों में से किसी भी भांति के कारावास से , जिसकी अवधि दो वर्ष तक हो सकेगी ,या जुर्माने से , या दोनों से  दण्डित किया जायेगा .

दंगा और बल्वा में अंतर

दंगाबल्वा
१ - दंगा का अपराध केवल सार्वजनिक स्थान पर ही किया जा सकता हैबल्वा सार्वजनिक स्थान के साथ-साथ निजी स्थानों पर भी किया जा सकता है
२ - दंगा दो या अधिक व्यक्तियों द्वारा किया जा सकता हैबल्वे के लिए व्यक्तियों की संख्या कम से कम पांच होनी चाहिए
३ - दंगा के अपराध में वास्तविक रूप से लड़ाई करने वाले व्यक्ति ही उत्तरदायी होते हैंबल्वे में सभी व्यक्ति उत्तरदायी होते हैं जो विधि विरुद्ध जमाव के सदस्य होते हैं चाहे उन्होंने हिंसा या बल का प्रयोग किया हो या नहीं
४ - दंगा कम दंड से दंडनीय अपराध हैबल्वा अधिक दंड से दंडनीय अपराध है

भारतीय दंड संहिता की धारा 146 (बल्वा ) की परिभाषा एवं दंड ओरिजनल बुक के अनुसार नीचे पीडीएफ फाइल में देखिये .

 Madhyprdesh ki nadiya | मध्यप्रदेश की नदिया

BUY

 Madhyprdesh ki nadiya | मध्यप्रदेश की नदिया

BUY

 

Updated: March 10, 2019 — 8:09 pm

Leave a Reply

Your email address will not be published.