Home LAW धारा 239 क्या है | 239 IPC in Hindi | IPC Section...

धारा 239 क्या है | 239 IPC in Hindi | IPC Section 239

3074
0

आज के इस आर्टिकल में मै आपको “ सिक्के का परिदान जिसका कूटकृत होना कब्जे में आने के समय ज्ञात था | भारतीय दंड संहिता की धारा 239 क्या है | 239 Ipc in Hindi | IPC Section 239 | Delivery of coin, possessed with knowledge that it is coun­terfeit के विषय में बताने जा रहा हूँ आशा करता हूँ मेरा यह प्रयास आपको जरुर पसंद आएगा । तो चलिए जानते है की –

भारतीय दंड संहिता की धारा 239 क्या है | 239 Ipc in Hindi

[ Ipc Sec. 239 ] हिंदी में –

सिक्के का परिदान जिसका कूटकृत होना कब्जे में आने के समय ज्ञात था–

जो कोई अपने पास कोई ऐसा कूटकृत सिक्का होते हुए जिसे वह उस समय, जब वह उसके कब्जे में आया था, जानता था कि वह कूटकृत है, कपटपूर्वक, या इस आशय से कि कपट किया जाए, उसे किसी व्यक्ति को परिदत्त करेगा या किसी व्यक्ति को उसे लेने के लिए उत्प्रेरित करने का प्रयत्न करेगा, वह दोनों में से किसी भांति के कारावास से, जिसकी अवधि पांच वर्ष तक की हो सकेगी, दंडित किया जाएगा और जुर्माने से भी दंडनीय होगा ।

239 Ipc in Hindi

[ Ipc Sec. 239 ] अंग्रेजी में –

“ Delivery of coin, possessed with knowledge that it is coun­terfeit ”–

Whoever, having any counterfeit coin, which at the time when he became possessed of it knew to be counterfeit, fraudu­lently or with intent that fraud may be committed, delivers the same to any person, or attempts to induce any person to receive it shall be punished with imprisonment of either description for a term which may extend to five years, and shall also be liable to fine.

239 Ipc in Hindi

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here