धारा 194 क्या है | 194 IPC in Hindi | IPC Section 194

आज के इस आर्टिकल में मै आपको “ मृत्यु से दंडनीय अपराध के लिए दोषसिद्धि कराने के आशय से मिथ्या साक्ष्य देना या गढ़ना भारतीय दंड संहिता की धारा 194 क्या है | 194 Ipc in Hindi | IPC Section 194 | Giving or fabricating false evidence with intent to procure conviction of capital offence के विषय में बताने जा रहा हूँ आशा करता हूँ मेरा यह प्रयास आपको जरुर पसंद आएगा । तो चलिए जानते है की –

भारतीय दंड संहिता की धारा 194 क्या है | 194 Ipc in Hindi

[ Ipc Sec. 194 ] हिंदी में –

मृत्यु से दंडनीय अपराध के लिए दोषसिद्धि कराने के आशय से मिथ्या साक्ष्य देना या गढ़ना-

जो कोई भारत में तत्समय प्रवृत्त विधि द्वारा] मृत्यु से दंडनीय अपराध के लिए किसी व्यक्ति को दोषसिद्ध कराने के आशय से या संभाव्यतः तद्वारा दोषसिद्ध कराएगा यह जानते हुए मिथ्या साक्ष्य देगा या गढ़ेगा, वह [आजीवन कारावास] से. या कठिन कारावास से, जिसकी अवधि दस वर्ष तक की हो सकेगी. दंडित किया जाएगा, और जुर्माने से भी दंडनीय होगा ।

यदि निर्दोष व्यक्ति एतददारा दोषसिद्ध किया जाए और उसे फांसी दी जाए–और यदि किसी निर्दोष व्यक्ति को ऐसे मिथ्या साक्ष्य के परिणामस्वरूप दोषसिद्ध किया जाए, और उसे फांसी दे दी जाए, तो उस व्यक्ति को, जो ऐसा मिथ्या साक्ष्य देगा, या तो मृत्यु दंड या एतस्मिन्पूर्व वर्णित दंड दिया जाएगा ।

194 Ipc in Hindi

[ Ipc Sec. 194 ] अंग्रेजी में –

“ Giving or fabricating false evidence with intent to procure conviction of capital offence ”–

Whoever gives or fabricates false evidence, intending thereby to cause, or knowing it to be likely that he will thereby cause, any person to be convicted of an offence which is capital 1[by the law for the time being in force in 2[India]] shall be punished with 3[imprisonment for life], or with rigorous imprisonment for a term which may extend to ten years, and shall also be liable to fine;

if innocent person be thereby convicted and executed.—and if an innocent person be convicted and executed in consequence of such false evidence, the person who gives such false evidence shall be punished either with death or the punishment hereinbefore de­scribed.

194 Ipc in Hindi

Updated: March 31, 2020 — 4:23 pm

Leave a Reply

Your email address will not be published.