Home LAW धारा 185 क्या है | 185 IPC in Hindi | IPC Section...

धारा 185 क्या है | 185 IPC in Hindi | IPC Section 185

484
0
185 Ipc in Hindi

आज के इस आर्टिकल में मै आपको “लोक सेवक के प्राधिकार द्वारा विक्रय के लिए प्रस्थापित की गई संपत्ति का अवैध क्रय या उसके लिए अवैध बोली लगाना भारतीय दंड संहिता की धारा 185 क्या है | 185 Ipc in Hindi | IPC Section 185 | Illegal purchase or bid for property offered for sale by authority of public servant के विषय में बताने जा रहा हूँ आशा करता हूँ मेरा यह प्रयास आपको जरुर पसंद आएगा । तो चलिए जानते है की –

भारतीय दंड संहिता की धारा 185 क्या है | 185 Ipc in Hindi

[ Ipc Sec. 185 ] हिंदी में –

लोक सेवक के प्राधिकार द्वारा विक्रय के लिए प्रस्थापित की गई संपत्ति का अवैध क्रय या उसके लिए अवैध बोली लगाना–

जो कोई संपत्ति के किसी ऐसे विक्रय में. जो लोक सेवक के नाते लोक सेवक के विधिपूर्ण प्राधिकार द्वारा हो रहा हो, किसी ऐसे व्यक्ति के निमित्त चाहे वह व्यक्ति वह स्वयं हो, या कोई अन्य हो, किसी संपत्ति का क्रय करेगा या किसी संपत्ति के लिए बोली लगाएगा, जिसके बारे में वह जानता हो कि वह व्यक्ति उस विक्रय में उस संपत्ति के क्रय करने के बारे में किसी विधिक असमर्थता के अधीन है या ऐसी संपत्ति के लिए यह आशय रखकर बोली लगाएगा कि ऐसी बोली लगाने से जिन बाध्यताओं के अधीन वह अपने आप को डालता है उन्हें उसे पूरा नहीं करना है. वह दोनों में से किसी भांति के कारावास से, जिसकी अवधि एक मास तक की हो सकेगी, या जुर्माने से, जो दो सौ रुपए तक का हो सकेगा, या दोनों से, दंडित किया जाएगा |

185 Ipc in Hindi

[ Ipc Sec. 185 ] अंग्रेजी में –

“ Illegal purchase or bid for property offered for sale by authority of public servant ”–

Whoever, at any sale of property held by the lawful authority of a public servant, as such, pur­chases or bids for any property on account of any person, whether himself or any other, whom he knows to be under a legal incapaci­ty to purchase that property at that sale, or bids for such prop­erty not intending to perform the obligations under which he lays himself by such bidding, shall be punished with imprisonment of either description for a term which may extend to one month, or with fine which may extend to two hundred rupees, or with both.

185 Ipc in Hindi

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here