Home LAW धारा 141 क्या है | 141 Ipc in Hindi | IPC Section...

धारा 141 क्या है | 141 Ipc in Hindi | IPC Section 141

4607
0
141 Ipc in Hindi

आज के इस आर्टिकल में मै आपको विधिविरुद्ध जमाव का अर्थ  भारतीय दंड संहिता की धारा 141 क्या है | 141 Ipc in Hindi | IPC Section 141 |   Unlawful assembly के विषय में बताने जा रहा हूँ आशा करता हूँ मेरा यह प्रयास आपको जरुर पसंद आएगा । तो चलिए जानते है की –

भारतीय दंड संहिता की धारा 141 क्या है | 141 Ipc in Hindi

[ Ipc Sec. 141 ] हिंदी में –

विधिविरुद्ध जमाव-

पांच या अधिक व्यक्तियों का जमाव “विधिविरुद्ध जमाव” कहा जाता है, यदि उन व्यक्तियों का, जिनसे वह जमाव गठित हुआ है, सामान्य उद्देश्य हो–

पहला–केंद्रीय सरकार को, या किसी राज्य सरकार को, या संसद को या, किसी राज्य के विधान-मंडल] को, या किसी लोक सेवक को, जब कि वह ऐसे लोक सेवक की विधिपूर्ण शक्ति का प्रयोग कर रहा हो, आपराधिक बल द्वारा, या आपराधिक बल के प्रदर्शन द्वारा, आतंकित करना, अथवा

दूसरा–किसी विधि के, या किसी वैध आदेशिका के निष्पादन का प्रतिरोध करना, अथवा तीसरा–किसी रिष्टि या आपराधिक अतिचार या अन्य अपराध का करना, अथवा

चौथा–किसी व्यक्ति पर आपराधिक बल द्वारा या आपराधिक बल के प्रदर्शन द्वारा, किसी संपत्ति का कब्जा लेना या अभिप्राप्त करना या किसी व्यक्ति को किसी मार्ग के अधिकार के उपभोग से, या जल का उपभोग करने के अधिकार या अन्य अमूर्त अधिकार से जिसका वह कब्जा रखता हो, या उपभोग करता हो, वंचित करना या किसी अधिकार या अनुमित अधिकार को प्रवर्तित कराना, अथवा

पांचवा–आपराधिक बल द्वारा या आपराधिक बल के प्रदर्शन द्वारा किसी व्यक्ति को वह करने के लिए, जिसे करने के लिए वह वैध रूप से आबद्ध न हो या उसका लोप करने के लिए. जिसे करने का वह वैध रूप से हकदार हो, विवश करना ।

स्पष्टीकरण–कोई जमाव, जो इकट्ठा होते समय विधिविरुद्ध नहीं था, बाद को विधिविरुद्ध जमाव हो सकेगा |

141 Ipc in Hindi

[ Ipc Sec. 141 ] अंग्रेजी में –

“  Unlawful assembly ”–

An assembly of five or more persons is designated an “unlawful assembly”, if the common object of the persons composing that assembly is—

(First) — To overawe by criminal force, or show of criminal force, 1[the Central or any State Government or Parliament or the Legis­lature of any State], or any public servant in the exercise of the lawful power of such public servant; or
(Second) — To resist the execution of any law, or of any legal process; or
(Third) — To commit any mischief or criminal trespass, or other offence; or
(Fourth) — By means of criminal force, or show of criminal force, to any person, to take or obtain possession of any property, or to deprive any person of the enjoyment of a right of way, or of the use of water or other incorporeal right of which he is in possession or enjoyment, or to enforce any right or supposed right; or
(Fifth) — By means of criminal force, or show of criminal force, to compel any person to do what he is not legally bound to do, or to omit to do what he is legally entitled to do.
Explanation.—An assembly which was not unlawful when it assem­bled, may subsequently become an unlawful assembly.

141 Ipc in Hindi

Previous articleधारा 140 क्या है | 140 Ipc in Hindi | IPC Section 140
Next articleधारा 142 क्या है | 142 Ipc in Hindi | IPC Section 142

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here