संविधान अनुच्छेद 88 | Article 88 of Indian Constitution in Hindi

आज के इस आर्टिकल में मै आपको सदनों के बारे में मंत्रियों और महान्यायवादी के अधिकार  | भारतीय संविधान अनुच्छेद 88 | Article 88 of Indian Constitution in Hindi | Article 88 in Hindi | भारतीय संविधान का अनुच्छेद 88 | Rights of Ministers and Attorney-General as respects Houses.के विषय में बताने जा रहा हूँ आशा करता हूँ मेरा यह प्रयास आपको जरुर पसंद आएगा । तो चलिए जानते है की –

भारतीय संविधान अनुच्छेद 88 | Article 88 of Indian Constitution in Hindi

[ Indian Constitution Article 88 in Hindi ] –

सदनों के बारे में मंत्रियों और महान्यायवादी के अधिकार–

प्रत्येक मंत्री और भारत के महान्यायवादी को यह अधिकार होगा कि वह किसी भी सदन में, सदनों की किसी सयुंक्त बैठक में और संसद की किसी समिति में, जिसमें उसका नाम सदस्य के रूप में दिया गया है, बोले और उसकी कार्यवाहियों में अन्यथा भाग ले, किन्तु इस अनुच्छेद के आधार पर   वह मत देने का हकदार नहीं होगा ।

भारतीय संविधान अनुच्छेद 88

[ Indian Constitution Article 88 in English ] –

Rights of Ministers and Attorney-General as respects Houses”–

Every Minister and the Attorney-General of India shall have the right to speak in, and otherwise to take part in the proceedings of, either House, any joint sitting of the Houses, and any committee of Parliament of which he may be named a member, but shall not by virtue of this article be entitled to vote.


भारतीय संविधान अनुच्छेद 88

भारतीय संविधान

Pdf download in hindi

Indian Constitution

Pdf download in English


Article 1 of Indian Constitution in Hindi Article 1 of Indian Constitution in Hindi
Updated: August 9, 2020 — 2:29 pm

Leave a Reply

Your email address will not be published.