संविधान अनुच्छेद 363a | Article 363a of Indian Constitution in Hindi

आजके इस आर्टिकल में मैआपकोदेशी राज्यों के शासकों को दी गई मान्यता की समाप्ति और निजी थैलियों का अंत | भारतीय संविधान अनुच्छेद 363a  | Article 363a of Indian Constitution in Hindi | Article 363a in Hindi | भारतीय संविधान का अनुच्छेद 363a | Recognition granted to Rulers of Indian States to cease and privy purses to be abolishedके विषय में बताने जा रहा हूँ आशा करता हूँ मेरा यह प्रयास आपको जरुर पसंद आएगा । तो चलिए जानते है की –

भारतीय संविधान अनुच्छेद 363a | Article 363a of Indian Constitution in Hindi

[ Indian Constitution Article 363a in Hindi ] –

देशी राज्यों के शासकों को दी गई मान्यता की समाप्ति और निजी थैलियों का अंत–

इस संविधान या तत्समय प्रवॄत्त किसी विधि में किसी बात के होते हुए भी–

(क) ऐसा राजा, प्रमुख या अन्य व्यक्ति, जिसे संविधान (छब्बीसवां संशोधन) अधिनियम, 1971 के प्रारंभ से पहले किसी समय राष्ट्रपति से किसी देशी राज्य के शासक के रूप में मान्यता प्राप्त थी, या ऐसा व्यक्ति, जिसे ऐसे प्रारंभ से पहले किसी समय राष्ट्रपति से ऐसे शासक के उत्तराधिकारी के रूप में मान्यता प्राप्त थी, ऐसे प्रारंभ को और से ऐसे शासक या ऐसे शासक के उत्तराधिकारी के रूप में मान्यता प्राप्त नहीं रह जाएगा;

(ख) संविधान (छब्बीसवां संशोधन)अधिनियम, 1971 के प्रारंभ को और से निजी थैली का अंत किया जाता है और निजी थैली की बाबत सभी अधिकार, दायित्व और बाध्यताएं निर्वापित की जाती हैं और तद्नुसार खंड (क) में निर्दिष्ट, यथास्थिति, शासक या ऐसे  शासक के उत्तराधिकारी को या अन्य व्यक्ति को किसी राशि का निजी थैली के रूप में संदाय नहीं किया जाएगा।

भारतीय संविधान अनुच्छेद 363a

[ Indian Constitution Article 363a in English ] –

“Recognition granted to Rulers of Indian States to cease and privy purses to be abolished ”–

Notwithstanding anything in this Constitution or in any law for the time being in force —

(a) the Prince, Chief or other person who, at any time before the commencement of the Constitution (Twenty-sixth Amendment) Act, 1971, was recognised by the President as the Ruler of an Indian State or any person who, at any time before such commencement, was recognised by the President as the successor of such ruler shall, on and from such commencement, cease to be recognised as such Ruler or the successor of such Ruler;

(b) on and from the commencement of the Constitution (Twenty-sixth Amendment) Act, 1971, privy purse is abolished and all rights, liabilities and obligations in respect of privy purse are extinguished and accordingly the Ruler or, as the case may be, the successor of such Ruler, referred to in clause (a) or any other person shall not be paid any sum as privy purse.


भारतीय संविधान अनुच्छेद 363a

भारतीय संविधान

Pdf download in hindi

Indian Constitution

Pdf download in English


Article 1 of Indian Constitution in Hindi Article 1 of Indian Constitution in Hindi
Updated: August 22, 2020 — 10:26 am

Leave a Reply

Your email address will not be published.