Home ALL POST विराट कोहली की जीवनी | Virat Kohli biography Hindi

विराट कोहली की जीवनी | Virat Kohli biography Hindi

459
0
Virat Kohli biography Hindi

विराट कोहली की जीवनी | Virat Kohli biography Hindi

Virat Kohli biography Hindi

Virat Kohli biography Hindi

नाम  – विराट कोहली
जन्म       – 5 नवम्बर 1988
जन्मस्थान – दिल्ली
पिता       – प्रेम कोहली
माता       – सरोज कोहली

विराट कोहली की जीवनी

विराट कोहली का जन्म दिल्ली में 5 नवम्बर 1988 को हुआ था। उनके माता और पिता सरोज कोहली और प्रेमजी है।

उनका अपना भाई, विकास और एक बड़ी बहन, भावना है। कोहली ने विशाल भारती स्कूल से अपनी शिक्षा हासिल की है।

उनके पिता प्रेम जी, एक वकील थे और उनकी मृत्यु दिसम्बर 2006 में हुई थी।उन्होंने बॉलीवुड की अभिनेत्री अनुष्का शर्मा के साथ इटली में 11 दिसंबर 2017 को शादी रचाई। अब वे वैवाहिक जीवन में बंध गए है।

विराट और अनुष्का (विरुष्का) विवाह एक बहुत ही निजी संबंध था और विवाह से कुछ दिन पहले तक कोई भी शादी के बारे में नहीं जानता था।

मीडिया रिपोर्टों के अनुसार, फोटोग्राफर, कैटरर्स और होटल कर्मचारियों सहित शादी में शामिल सभी को एक गैर प्रकटीकरण समझौते (एनडीए) द्वारा बंधे थे।

 ये पहली बार शैम्पू के विज्ञापन में एकसाथ नजर आये थे जिसके बाद से लगातार सम्बंध में रहे। इन्हें “चीकू” के उपनाम से जाना जाता है।

Virat Kohli biography Hindi

विराट कोहली का विवाह 

2013 से अनुष्का शर्मा व कोहली के मध्य प्रेम सम्बन्ध थे। इस सम्बन्ध को मीडिया का पर्याप्त ध्यान आकर्षित किया था। आखिरकार 11 दिसम्बर 2017 को इटली के मिलान नगर में दोनों ने शादी कर ली, जिसकी पुष्टि इन दोनों ने अपने ट्विटर हैंडल पर की।

Virat Kohli biography Hindi

अंतर्राष्ट्रीय कैरियर

वो एक मध्यक्रम के बल्लेबाज हैं और दायें हाथ के मध्यम गति गेंदबाज भी हैं। ये प्रथम श्रेणी क्रिकेट में दिल्ली का प्रतिनिधित्व करते हैं और इंडियन प्रीमियर लीग में रॉयल चैलेंजर्स बैंगलौर के कप्तान हैं।

उन्होंने वेस्ट दिल्ली क्रिकेट अकादमी के लिए भी खेला है। उन्होंने एक भारतीय बल्लेबाज द्वारा सबसे तेज शतक का रिकॉर्ड बनाया है।

२००८ में ऑस्ट्रेलिया में इमर्जिंग प्लेयर्स टूर्नामेंट में एक सौ के बाद कोहली २००८ में श्रीलंका की भारत के दौरे के लिए वनडे टीम में चुना गया था।

सचिन तेंडुलकर और वीरेंद्र सहवाग दोनों चोटिल हो गए थे जब कोहली २००८ में आइडिया कप में श्रीलंका के खिलाफ एक दिवसीय अंतरराष्ट्रीय मैचों में अपनी शुरुआत की।

अपने पहले मैच में उन्होंने १२ रन बनाए। उन्होंने चौथे मैच में अपना पहला अर्धशतक, ५४ का स्कोर बनाया और भारत को सीरीज जीतने में मदद की।

यह श्रीलंका में श्रीलंका के खिलाफ भारत की पहली वनडे सीरीज जीत थी। युवराज सिंह के चोटिल हो जाने के बाद कोहली, २००९ आईसीसी चैंपियंस ट्रॉफी में खेले, और 2009 के मध्य के बाद से रिजर्व वनडे बल्लेबाज के तौर पर लिया गया।

Virat Kohli biography Hindi

युवराज सिंह ने ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ घरेलू सीरीज के लिए फिटनेस वापस पा ली, तो कोहली शृंखला में कुछ मैचों में ही खेल पाए।

चोटिल युवराज की गैर मौजूदगी में श्रीलंका ने भारत का दौरा किया था जब दिसम्बर २००९ में विराट को ४ वनडे में खेलने का मौका मिला।

उन्होंने अपना पहल वनडे शतक जमाया और भारत को सीरीज ३-१ से जीताने में तीसरे विकेट के लिए २२४ रन की साझेदारी गौतम गंभीर के साथ की।

सीनियर बल्लेबाज सचिन तेंदुलकर ने जनवरी २०१० में बांग्लादेश में त्रिकोणीय राष्ट्र टूर्नामेंट के लिए विश्राम लिया था।

अतः भारत के पांच मैचों में से प्रत्येक में खेलने के लिए कोहली को मौका मिला। कोहली को जून २०१० में जिम्बाब्वे में श्रीलंका और जिम्बाब्वे के खिलाफ त्रिकोणीय सीरीज के लिए एकदिवसीय टीम का उप कप्तान बनाया गया जब अन्य सभी पहली पसंद खिलाड़ियों ने टूर्नामेंट में हिस्सा नहीं लिया।

इसी शृंखला में वो एकदिवसीय क्रिकेट में सबसे तेज 1000 रन बनाने वाले भारतीय बन गए। उन्होंने ४७.३८ की औसत से २५ मैचों में ९९५ रन बनाए उसमें ३ शतक शामिल थे, २०१० में भारत के लिए सबसे ज्यादा रन बनाने वाले बल्लेबाज़ बने।

कोहली को जून २०१० में जिम्बाब्वे के खिलाफ T 20 शृंखला के लिए भारतीय टीम में शामिल किया गया था।

Virat Kohli biography Hindi

 इसके बाद देखते-देखते इस खिलाड़ी ने अपना दबदबा बनाया और दिसंबर 2014 में ऑस्ट्रेलिया दौरे पर महेंद्र सिंह धोनी के टेस्ट क्रिकेट से अचानक संन्यास लेने के बाद पहली बार विराट कोहली ने टीम इंडिया की कप्तानी का स्वाद चखा।

इसके बाद 2017 की शुरुआत में जब धोनी ने सीमित ओवर क्रिकेट में अपनी कप्तानी छोड़ दी तो विराट को यहां भी कप्तानी मिल गई और वो हर प्रारूप में भारतीय टीम के कप्तान बन गए।

भारतीय क्रिकेट टीम की कप्तानी मिलने के बाद भी विराट कोहली का बल्ला थमा नहीं और ना ही उनका जलवा कम हुआ।

जिम्मेदारी के बावजूद विराट कोहली ने लगातार व्यक्तिगत प्रदर्शन भी बरकरार रखा और अपनी टीम को भी जीत और रिकॉर्ड की सुर्खियों में रखा।

 Madhyprdesh ki nadiya | मध्यप्रदेश की नदिया

BUY

 Madhyprdesh ki nadiya | मध्यप्रदेश की नदिया

BUY

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here