धारा 88 साक्ष्य अधिनियम | Section 88 of Indian Evidence Act Hindi

आज के इस आर्टिकल में मै आपको “तार संदेशों के बारे में उपधारणा | साक्ष्य अधिनियम की धारा 88 क्या है | Section 88 Indian Evidence Act in Hindi | Section 88 of Indian Evidence Act | धारा 88 साक्ष्य अधिनियम | Presumption as to telegraphic messages के विषय में बताने जा रहा हूँ आशा करता हूँ मेरा यह प्रयास आपको जरुर पसंद आएगा । तो चलिए जानते है की –

साक्ष्य अधिनियम की धारा 88 |  Section 88 of Indian Evidence Act | Section 88 Indian Evidence Act in Hindi

[ Indian Evidence Act Section 88 in Hindi ] –

”  तार संदेशों के बारे में उपधारणा”

न्यायालय यह उपधारित कर सकेगा कि कोई संदेश, जो किसी तार घर से उस व्यक्ति को भेजा गया है, जिसे ऐसे संदेश का सम्बोधित होना तात्पर्यित है, उस संदेश के समरूप है जो भेजे जाने के लिए, उस कार्यालय को, जहां से वह संदेश पारेषित किया गया तात्पर्यित है, परिदत्त किया गया था, किन्तु न्यायालय उस व्यक्ति के बारे में, जिसने संदेश पारेषित किए जाने के लिए परिदत्त किया था, कोई उपधारणा नहीं करेगा।

धारा 88 Indian Evidence Act

[ Indian Evidence Act Sec. 88 in English ] –

“ Presumption as to telegraphic messages”–

The Court may presume that a message, forwarded from a telegraph office to the person to whom such message purports to be addressed, corresponds with a message delivered for transmission at the office from which the message purports to be sent; but the Court shall not make any presumption as to the person by whom such message was delivered for transmission. 

धारा 88 Indian Evidence Act 

साक्ष्य अधिनियम  

Pdf download in hindi

Indian Evidence Act

Pdf download in English 

Ipc sections Ipc sections
Section 67A of Indian Evidence Act Ipc sections
Section 67A of Indian Evidence Act Ipc sections
Section 67A of Indian Evidence Act Ipc sections
Section 67A of Indian Evidence Act Ipc sections
Section 67A of Indian Evidence Act

 

Updated: June 2, 2020 — 6:07 pm

Leave a Reply

Your email address will not be published.