धारा 49 सम्पत्ति अन्तरण | Section 49 of Transfer of property Act Hindi

आज के इस आर्टिकल में मै आपको “बीमा पालिसी के अधीन अंतरिती का अधिकार | सम्पत्ति अन्तरण अधिनियम की धारा 49 क्या है | Section 49 Transfer of property Act in hindi | Section 49 of Transfer of property Act | धारा 49 सम्पत्ति अन्तरण अधिनियम | Priority of rights created by transfer के विषय में बताने जा रहा हूँ आशा करता हूँ मेरा यह प्रयास आपको जरुर पसंद आएगा । तो चलिए जानते है की –

सम्पत्ति अन्तरण अधिनियम की धारा 49 |  Section 49 of Transfer of property Act | Section 49 Transfer of property Act in Hindi

[ Transfer of property Act Section 49 in Hindi ] –

बीमा पालिसी के अधीन अंतरिती का अधिकार-

जहां कि स्थावर सम्पत्ति प्रतिफलार्थ अंतरित की जाती है और उस अन्तरण की तारीख को ऐसी सम्पत्ति या उसका कोई भाग हानि या नुकसान के लिए, जो अग्नि से हो, बीमाकृत है, वहां तत्प्रतिकूल संविदा न हो तो अन्तरिती ऐसी हानि या नुकासन की दशा में यह अपेक्षा कर सकेगा कि कोई भी धन, जो अन्तरक को उस पालिसी के अधीन वास्तव में प्राप्त होता है या उसका उतना भाग, जितना आवश्यक हो, उस सम्पत्ति के यथापूर्वकरण में लगाया जाए।

धारा 49 Transfer of property Act

[ Transfer of property Act Sec. 49 in English ] –

“Transferee’s right under policy ”–

Where immoveable property is transferred for consideration, and such property or any part thereof is at the date of the transfer insured against loss or damage by fire, the transferee, in case of such loss or damage, may, in the absence of a contract to the contrary, require any money which the transferor actually receives under the policy, or so much thereof as may be necessary, to be applied in reinstating the property.

धारा 49 Transfer of property Act 

सम्पत्ति अन्तरण अधिनियम  

Pdf download in hindi

Transfer of property Act

Pdf download in English 

Pocso Act sections listDomestic violence act sections list
Updated: May 25, 2020 — 2:14 pm

Leave a Reply

Your email address will not be published.