Home LAW धारा 45 साक्ष्य अधिनियम | Section 45 of Indian Evidence Act Hindi

धारा 45 साक्ष्य अधिनियम | Section 45 of Indian Evidence Act Hindi

1603
0
Section 45 of Indian Evidence Act

आज के इस आर्टिकल में मै आपको “विशेषज्ञों की राये | साक्ष्य अधिनियम की धारा 45 क्या है | Section 45 Indian Evidence Act in Hindi | Section 45 of Indian Evidence Act | धारा 45 साक्ष्य अधिनियम | Opinions of experts  के विषय में बताने जा रहा हूँ आशा करता हूँ मेरा यह प्रयास आपको जरुर पसंद आएगा । तो चलिए जानते है की –

साक्ष्य अधिनियम की धारा 45 |  Section 45 of Indian Evidence Act | Section 45 Indian Evidence Act in Hindi

[ Indian Evidence Act Section 45 in Hindi ] –

” विशेषज्ञों की राये “

जब कि न्यायालय की विदेशी विधि की या विज्ञान की या कला की किसी बात पर या हस्तलेख [या अंगुली चिह्नों] की अनन्यता के बारे में राय बनानी हो तब उस बात पर ऐसी विदेशी विधि, विज्ञान या कला में गया हस्तलेख] [या अंगुली चिह्नों की अनन्यता विषयक प्रस्नों में, विशेष कुशल व्यक्तियों की रायें सुसंगत तथ्य हैं।

ऐसे व्यक्ति विशेषज्ञ कहलाते हैं।

दृष्टांत

(क) प्रश्न यह है कि क्या क की मृत्यु विष द्वारा कारित हुई।

जिस विष के बारे में अनुमान है कि उससे क की मृत्यु हुई है, उस विष से पैदा हुए लक्षणों के बारे में विशेषज्ञों की रायें सुसंगत हैं।

(ख) प्रश्न यह है कि क्या क अमुक कार्य करने के समय चित्तविकृति के कारण उस कार्य की प्रकृति, या यह कि जो कुछ बह कर रहा है वह दोषपूर्ण या विधि के प्रतिकूल है, जानने में असमर्थ था।

इस प्रश्न पर विशेषज्ञों की रायें सुसंगत हैं कि क्या क द्वारा प्रदर्शित लक्षणों से चित्तविकृति सामान्यतः दर्शित होती है तथा क्या ऐसी चित्तविकृति लोगों को उन कार्यों की प्रकृति, जिन्हें वे करते हैं, या वह कि जो कुछ वे कर रहे हैं वह या तो दोषपूर्ण या विधि के प्रतिकूल हैं, जानने में प्रायः असमर्थ बना देती है।

(ग) प्रश्न यह है कि क्या अमुक दस्तावेज क द्वारा लिखी गई थी। एक अन्य दस्तावेज पेश की जाती है जिसका क द्वारा लिखा जाना साबित या स्वीकृत है।

इस प्रश्न पर विशेषज्ञों की रायें सुसंगत हैं कि क्या दोनों दस्तावेजें एक ही व्यक्ति द्वारा या विभिन्न व्यक्तियों द्वारा लिखी गई थीं।

धारा 45 Indian Evidence Act

[ Indian Evidence Act Sec. 45 in English ] –

“Opinions of experts”–

 When the Court has to form an opinion upon a point of foreign law or of science, or art, or as to identity of handwriting, 2[or finger impressions], the opinions upon that point of persons specially skilled in such foreign law, science or art, 3[or in questions as to identity of handwriting] 2[or finger impressions] are relevant facts. 

Such persons are called experts. 

Illustrations 

(a) The question is, whether the death of A was caused by poison. 

The opinions of experts as to the symptoms produced by the poison by which A is supposed to have died, are relevant. 

(b) The question is, whether A, at the time of doing a certain act, was, by reason of unsoundness of mind, incapable of knowing the nature of the act, or that he was doing what was either wrong or contrary to law. 

The opinions of experts upon the question whether the symptoms exhibited by A commonly show unsoundness of mind, and whether such unsoundness of mind usually renders persons incapable of knowing the nature of the acts which they do, or of knowing that what they do is either wrong or contrary to law, are relevant. 

(c) The question is, whether a certain document was written by A. Another document is produced which is proved or admitted to have been written by A. 

The opinions of experts on the question whether the two documents were written by the same person or by different persons, are relevant.

धारा 45 Indian Evidence Act 

साक्ष्य अधिनियम  

Pdf download in hindi

Indian Evidence Act

Pdf download in English 

  • Evidence act sections Evidence act sections
    Section 1 of Indian Evidence Act Evidence act sections
    Section 1 of Indian Evidence Act Evidence act sections
    Section 1 of Indian Evidence Act Ipc sections
    Section 1 of Indian Evidence Act Ipc sections
    Section 1 of Indian Evidence Act

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here