Home LAW धारा 444 CrPC | Section 444 CrPC in Hindi | CrPC Section...

धारा 444 CrPC | Section 444 CrPC in Hindi | CrPC Section 444

2891
0

आज के इस आर्टिकल में मै आपको “प्रतिभुओं का उन्मोचन | दंड प्रक्रिया संहिता की धारा 444 क्या है | section 444 CrPC in Hindi | Section 444 in The Code Of Criminal Procedure | CrPC Section 444 | Discharge of suretiesके विषय में बताने जा रहा हूँ आशा करता हूँ मेरा यह प्रयास आपको जरुर पसंद आएगा । तो चलिए जानते है की –

दंड प्रक्रिया संहिता की धारा 444 |  Section 444 in The Code Of Criminal Procedure

[ CrPC Sec. 444 in Hindi ] –

प्रतिभुओं का उन्मोचन–

(1) जमानत पर छोड़े गए व्यक्ति की हाजिरी और उपस्थिति के लिए प्रतिभुओं में से सब या कोई बंधपत्र के या तो पूर्णतया या वहां तक, जहां तक वह आवेदकों से संबंधित है, प्रभावोन्मुक्त किए जाने के लिए किसी समय मजिस्ट्रेट से आवेदन कर सकते हैं।

(2) ऐसा आवेदन किए जाने पर मजिस्ट्रेट यह निदेश देते हुए गिरफ्तारी का वारण्ट जारी करेगा कि ऐसे छोड़े गए व्यक्ति को उसके समक्ष लाया जाए।

(3) वारण्ट के अनुसरण में ऐसे व्यक्ति के हाजिर होने पर या उसके स्वेच्छया अभ्यर्पण करने पर मजिस्ट्रेट बंधपत्र के या तो पूर्णतया या, वहां तक, जहां तक कि वह आवेदकों से संबंधित है, प्रभावोन्मुक्त किए जाने का निदेश देगा और ऐसे व्यक्ति से अपेक्षा करेगा कि वह अन्य पर्याप्त प्रतिभू दे और यदि वह ऐसा करने में असफल रहता है तो उसे जेल सुपुर्द कर सकता है।

धारा 444 CrPC

[ CrPC Sec. 444 in English ] –

“Discharge of sureties”–

(1) All or any sureties for the attendance and appearance of a person released on bail may at any time apply to a Magistrate to discharge the bond, either wholly or so far as relates to the applicants.
(2) On such application being made, the Magistrate shall issue his warrant of arrest directing that the person so released be brought before him.
(3) On the appearance of such person pursuant to the warrant, or on his voluntary surrender, the Magistrate shall direct the bond to be discharged either wholly or so far as relates to the applicants, and shall call upon such person to find other sufficient sureties, and, if he fails to do so, may commit him to jail.

धारा 444 CrPC

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here