Home LAW धारा 442 CrPC | Section 442 CrPC in Hindi | CrPC Section...

धारा 442 CrPC | Section 442 CrPC in Hindi | CrPC Section 442

2775
0

आज के इस आर्टिकल में मै आपको “अभिरक्षा से उन्मोचन | दंड प्रक्रिया संहिता की धारा 442 क्या है | section 442 CrPC in Hindi | Section 442 in The Code Of Criminal Procedure | CrPC Section 442 | Discharge from custodyके विषय में बताने जा रहा हूँ आशा करता हूँ मेरा यह प्रयास आपको जरुर पसंद आएगा । तो चलिए जानते है की –

दंड प्रक्रिया संहिता की धारा 442 |  Section 442 in The Code Of Criminal Procedure

[ CrPC Sec. 442 in Hindi ] –

अभिरक्षा से उन्मोचन–

(1) ज्यों ही बंधपत्र निष्पादित कर दिया जाता है त्यों ही वह व्यक्ति, जिसकी हाजिरी के लिए वह निष्पादित किया गया है, छोड़ दिया जाएगा और जब वह जेल में हो तब उसकी जमानत मंजूर करने वाला न्यायालय जेल के भारसाधक अधिकारी को उसके छोड़े जाने के लिए आदेश जारी करेगा और वह अधिकारी आदेश की प्राप्ति पर उसे छोड़ देगा।

(2) इस धारा की या धारा 436 या धारा 437 की कोई भी बात किसी ऐसे व्यक्ति के छोड़े जाने की अपेक्षा करने वाली न समझी जाएगी जो ऐसी बात के लिए निरुद्ध किए जाने का भागी है जो उस बात से भिन्न है जिसके बारे में बंधपत्र निष्पादित किया गया है।

धारा 442 CrPC

[ CrPC Sec. 442 in English ] –

“Discharge from custody”–

  1. As soon as the bond has been executed, the person for whose appearance it has been executed shall be released; and when he is in jail the Court admitting him to bail shall issue an order of release to the officer in charge of the jail, and such officer on receipt of the orders shall release him.
  2. Nothing in this section, section 436 or section 437 shall be deemed to require the release of any person liable to be detained for some matter other than that in respect of which the bond was executed.

धारा 442 CrPC

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here