Home LAW धारा 433A CrPC | Section 433A CrPC in Hindi | CrPC Section...

धारा 433A CrPC | Section 433A CrPC in Hindi | CrPC Section 433A

2323
0

आज के इस आर्टिकल में मै आपको “कुछ मामलों में छूट या लघुकरण की शक्तियों पर निर्बन्धन | दंड प्रक्रिया संहिता की धारा 433A क्या है | section 433A CrPC in Hindi | Section 433A in The Code Of Criminal Procedure | CrPC Section 433A | Restriction on powers of remission or Commutation in certain cases के विषय में बताने जा रहा हूँ आशा करता हूँ मेरा यह प्रयास आपको जरुर पसंद आएगा । तो चलिए जानते है की –

दंड प्रक्रिया संहिता की धारा 433A |  Section 433A in The Code Of Criminal Procedure

[ CrPC Sec. 433A in Hindi ] –

कुछ मामलों में छूट या लघुकरण की शक्तियों पर निर्बन्धन-

धारा 432 में किसी बात के होते हुए भी, जहां किसी व्यक्ति को ऐसे अपराध के लिए, जिसके लिए मृत्यु दंड विधि द्वारा उपबंधित दंडों में से एक है आजीवन कारावास का दंडादेश दिया गया है या धारा 433 के अधीन किसी व्यक्ति को दिए गए मृत्यु दंडादेश का आजीवन कारावास के रूप में लघुकरण किया गया है वहां ऐसा व्यक्ति कारावास से तब तक नहीं छोड़ा जाएगा जब तक कि उसने चौदह वर्ष का कारावास पूरा न कर लिया हो।]

धारा 433A CrPC

[ CrPC Sec. 433A in English ] –

“Restriction on powers of remission or Commutation in certain cases ”–

Notwithstanding anything contained in section 432, where a sentence of imprisonment for life is imposed on conviction of a person for an offence for which death is one of the punishments provided by law, or where a sentence of death imposed on a person has been commuted under section 433 into one of imprisonment for life, such person shall not be released from prison unless he had served at least fourteen years of imprisonment.

धारा 433A CrPC

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here