Home LAW धारा 389 CrPC | Section 389 CrPC in Hindi | CrPC Section...

धारा 389 CrPC | Section 389 CrPC in Hindi | CrPC Section 389

1750
0
section 389 CrPC in Hindi

आज के इस आर्टिकल में मै आपको “अपील लंबित रहने तक दंडादेश का निलम्बन ; अपीलार्थी का जमानत पर छोड़ा जाना | दंड प्रक्रिया संहिता की धारा 389 क्या है | section 389 CrPC in Hindi | Section 389 in The Code Of Criminal Procedure | CrPC Section 389 | Suspension of sentence pending the appeal; release of appellant on bailके विषय में बताने जा रहा हूँ आशा करता हूँ मेरा यह प्रयास आपको जरुर पसंद आएगा । तो चलिए जानते है की –

दंड प्रक्रिया संहिता की धारा 389 |  Section 389 in The Code Of Criminal Procedure

[ CrPC Sec. 389 in Hindi ] –

अपील में उच्च न्यायालय के आदेश का प्रमाणित करके निचले न्यायालय को भेजा जाना—

(1) अपील न्यायालय, ऐसे कारणों से, जो उसके द्वारा अभिलिखित किए जाएंगे, आदेश दे सकता है कि उस दंडादेश या आदेश का निष्पादन, जिसके विरुद्ध अपील की गई है, दोषसिद्ध व्यक्ति द्वारा की गई अपील के लंबित रहने तक निलंबित किया जाए और यदि वह व्यक्ति परिरोध में है तो यह भी आदेश दे सकता है कि उसे जमानत पर या उसके अपने बंधपत्र पर छोड़ दिया जाए :

परन्तु अपील न्यायालय ऐसे दोषसिद्ध व्यक्ति को, जो मृत्यु या आजीवन कारावास या दस वर्ष से अन्यून अवधि के कारावास से दंडनीय किसी अपराध के लिए दोषसिद्ध किया गया है, जमानत पर या उसके अपने बंधपत्र पर छोड़ने से पूर्व, लोक अभियोजक को ऐसे छोड़ने के विरुद्ध लिखित में कारण दर्शाने का अवसर देगा:

परन्तु यह और कि ऐसे मामलों में, जहां किसी दोषसिद्ध व्यक्ति को जमानत पर छोड़ा जाता है वहां लोक अभियोजक जमानत रद्द किए जाने के लिए आवेदन फाइल कर सकेगा।]

(2) अपील न्यायालय को इस धारा द्वारा प्रदत्त शक्ति का प्रयोग उच्च न्यायालय भी किसी ऐसी अपील के मामले में कर सकता है जो किसी दोषसिद्ध व्यक्ति द्वारा उसके अधीनस्थ न्यायालय में की गई है।

(3) जहां दोषसिद्ध व्यक्ति ऐसे न्यायालय का जिसके द्वारा वह दोषसिद्ध किया गया है यह समाधान कर देता है कि वह अपील प्रस्तुत करना चाहता है वहां वह न्यायालय,

(i) उस दशा में जब ऐसा व्यक्ति, जमानत पर होते हुए, तीन वर्ष से अनधिक की अवधि के लिए कारावास से दंडादिष्ट किया गया है, या

(ii) उस दशा में जब वह अपराध, जिसके लिए ऐसा व्यक्ति दोषसिद्ध किया गया है, जमानतीय है और वह जमानत पर है, यह आदेश देगा कि दोषसिद्ध व्यक्ति को इतनी अवधि के लिए जितनी से अपील प्रस्तुत करने और उपधारा (1) के अधीन अपील न्यायालय के आदेश प्राप्त करने के लिए पर्याप्त समय मिल जाएगा जमानत पर छोड़ दिया जाए जब तक कि जमानत से इनकार करने के विशेष कारण न हों और जब तक वह ऐसे जमानत पर छूटा रहता है तब तक कारावास का दंडादेश निलम्बित समझा जाएगा।

(4) जब अंततोगत्वा अपीलार्थी को किसी अवधि के कारावास या आजीवन कारावास का दंडादेश दिया जाता है, तब वह समय, जिसके दौरान वह ऐसे छुटा रहता है, उस अवधि की संगणना करने में, जिसके लिए उसे ऐसा दंडादेश दिया गया है, हिसाब में नहीं लिया जाएगा।

धारा 389 CrPC

[ CrPC Sec. 389 in English ] –

“Suspension of sentence pending the appeal; release of appellant on bail”–

(1) Pending any appeal by a convicted person, the Appellate Court may, for reasons to be recorded by it in writing, order that the execution of the sentence or order appealed against be suspended and, also, if he is in confinement, that he be released on bail, or on his own bond.
(2) The power conferred by this section on an Appellate Court may be exercised also by the High Court in the case of an appeal by a convicted person to a Court subordinate thereto.
(3) Where the convicted person satisfies the Court by which he is convicted that he intends to present an appeal, the Court shall,-

(i) where such person, being on bail, is sentenced to imprisonment for a term not exceeding three years, or
(ii) where the offence of which such person has been convicted is a bailable one, and he is on bail, order that the convicted person be released on bail, unless there are special reasons for refusing bail, for such period as will afford sufficient time to present the appeal and obtain the orders of the Appellate Court under sub- section (1); and the sentence of imprisonment shall, so long as he is so released on bail, be deemed to be suspended.
(4) When the appellant is ultimately sentenced to imprisonment for a term or to imprisonment for life, the time during which he is so released shall be excluded in computing the term for which he is so sentenced.

धारा 389 CrPC

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here