Home LAW धारा 383 CrPC | Section 383 CrPC in Hindi | CrPC Section...

धारा 383 CrPC | Section 383 CrPC in Hindi | CrPC Section 383

1843
0

आज के इस आर्टिकल में मै आपको “जब अपीलार्थी जेल में है तब प्रक्रिया | दंड प्रक्रिया संहिता की धारा 383 क्या है | section 383 CrPC in Hindi | Section 383 in The Code Of Criminal Procedure | CrPC Section 383 | Procedure when appellant in jailके विषय में बताने जा रहा हूँ आशा करता हूँ मेरा यह प्रयास आपको जरुर पसंद आएगा । तो चलिए जानते है की –

दंड प्रक्रिया संहिता की धारा 383 |  Section 383 in The Code Of Criminal Procedure

[ CrPC Sec. 383 in Hindi ] –

जब अपीलार्थी जेल में है तब प्रक्रिया-

यदि अपीलार्थी जेल में है तो वह अपनी अपील की अर्जी और उसके साथ वाली प्रतिलिपियों को जेल के भारसाधक अधिकारी को दे सकता है, जो तब ऐसी अर्जी और प्रतिलिपियां समुचित अपील न्यायालय को भेजेगा।

धारा 383 CrPC

[ CrPC Sec. 383 in English ] –

“Procedure when appellant in jail ”–

If the appellant is in jail, he may present his petition of appeal and the copies accompanying the same to the officer in charge of the jail, who shall thereupon forward such petition and copies to the proper Appellate Court.

धारा 383 CrPC

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here