Home LAW धारा 376 CrPC | Section 376 CrPC in Hindi | CrPC Section...

धारा 376 CrPC | Section 376 CrPC in Hindi | CrPC Section 376

2005
0

आज के इस आर्टिकल में मै आपको “छोटे मामलों में अपील न होना | दंड प्रक्रिया संहिता की धारा 376 क्या है | section 376 CrPC in Hindi | Section 376 in The Code Of Criminal Procedure | CrPC Section 376 | No appeal in petty cases के विषय में बताने जा रहा हूँ आशा करता हूँ मेरा यह प्रयास आपको जरुर पसंद आएगा । तो चलिए जानते है की –

दंड प्रक्रिया संहिता की धारा 376 |  Section 376 in The Code Of Criminal Procedure

[ CrPC Sec. 376 in Hindi ] –

छोटे मामलों में अपील न होना-

धारा 374 में किसी बात के होते हुए भी, दोषसिद्ध व्यक्ति द्वारा कोई अपील निम्नलिखित में से किसी मामले में न होगी, अर्थात् :

(क) जहाँ उच्च न्यायालय केवल छह मास से अनधिक की अवधि के कारावास का या एक हजार रुपए से अनधिक जुर्माने का अथवा ऐसे कारावास और जुर्माने दोनों का, दंडादेश पारित करता है;

(ख) जहां सेशन न्यायालय या महानगर मजिस्ट्रेट केवल तीन मास से अनधिक की अवधि के कारावास का या दो सौ रुपए से अनधिक जुर्माने का अथवा ऐसे कारावास और जुर्माने दोनों का, दंडादेश पारित करता है;

(ग) जहां प्रथम वर्ग मजिस्ट्रेट केवल एक सौ रुपए से अनधिक जुर्माने का दंडादेश पारित करता है ; अथवा

(घ ) जहाँ संक्षेपतः विचारित किसी मामले में, धारा 260 के अधीन कार्य करने के लिए सशक्त मजिस्ट्रेट केवल दो सौ रुपए से अनधिक जुर्माने का दंडादेश पारित करता है :

परन्तु यदि ऐसे किसी दंडादेश के साथ कोई अन्य दंड मिला दिया गया है तो ऐसे दंडादेश के विरुद्ध अपील की जा सकती है किन्तु वह केवल इस आधार पर अपीलनीय न हो जाएगा कि

(i) दोषसिद्ध व्यक्ति को परिशान्ति कायम रखने के लिए प्रतिभूति देने का आदेश दिया गया है : अथवा

(ii) जुर्माना देने में व्यतिक्रम होने पर कारावास के निदेश को दंडादेश में सम्मिलित किया गया है ; अथवा

(iii) उस मामले में जुर्माने का एक से अधिक दंडादेश पारित किया गया है, यदि अधिरोपित जुर्माने की कुल रकम उस मामले की बाबत इसमें इसके पूर्व विनिर्दिष्ट रकम से अधिक नहीं है।

धारा 376 CrPC

[ CrPC Sec. 376 in English ] –

“No appeal in petty cases ”–

Notwithstanding anything contained in section 374, there shall be no appeal by a convicted person in any of the following cases, namely—

  1. where a High Court passes only a sentence of imprisonment for a term not exceeding six months or of fine not exceeding one thousand rupees, or of both such imprisonment and fine;
  2. where a Court of Session or a Metropolitan Magistrate passes only a sentence of imprisonment for a term not exceeding three months or of fine not exceeding two hundred rupees, or of both such imprisonment and fine;
  3. where a Magistrate of the first class passes only a sentence of fine not exceeding one hundred rupees; or
  4. where, in a case tried summarily, a Magistrate empowered to act under section 260 passes only a sentence of fine not exceeding two hundred rupees;
    Provided that an appeal may be brought against any such sentence if any other punishment is combined with it, but such sentence shall not be appealable merely on the ground—

    1. that the person convicted is ordered to furnish security to keep the peace; or
    2. that a direction for imprisonment in default of payment of fine is included in the sentence; or
    3. that more than one sentence of fine is passed in the case, if the total amount of fine imposed does not exceed the amount hereinbefore specified in respect of the case.

धारा 376 CrPC

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here