Home LAW धारा 333 CrPC | Section 333 CrPC in Hindi | CrPC Section...

धारा 333 CrPC | Section 333 CrPC in Hindi | CrPC Section 333

1178
0
section 333 CrPC in Hindi

आज के इस आर्टिकल में मै आपको “ जब यह प्रतीत हो कि अभियुक्त स्वस्थचित्त रहा है | दंड प्रक्रिया संहिता की धारा 333 क्या है | section 333 CrPC in Hindi | Section 333 in The Code Of Criminal Procedure | CrPC Section 333 | When accused appears to have been of sound mindके विषय में बताने जा रहा हूँ आशा करता हूँ मेरा यह प्रयास आपको जरुर पसंद आएगा । तो चलिए जानते है की –

दंड प्रक्रिया संहिता की धारा 333 |  Section 333 in The Code Of Criminal Procedure

[ CrPC Sec. 333 in Hindi ] –

जब यह प्रतीत हो कि अभियुक्त स्वस्थचित्त रहा है-

जब अभियुक्त जांच या विचारण के समय स्वस्थचित्त प्रतीत होता है और मजिस्ट्रेट का अपने समक्ष दिए गए साक्ष्य से समाधान हो जाता है कि यह विश्वास करने का कारण है कि अभियुक्त ने ऐसा कार्य किया है, जो यदि वह स्वस्थचित्त होता तो अपराध होता और यह कि वह उस समय जब बह कार्य किया गया था चित्त-विकृति के कारण उस कार्य का स्वरूप या यह जानने में असमर्थ था, कि यह दोषपूर्ण या विधि के प्रतिकूल है. तब मजिस्ट्रेट मामले में आगे कार्यवाही करेगा और यदि अभियुक्त का विचारण सेशन न्यायालय द्वारा किया जाना चाहिए तो उसे सेशन न्यायालय के समक्ष विचारण के लिए सुपुर्द करेगा।

धारा 333 CrPC

[ CrPC Sec. 333 in English ] –

“When accused appears to have been of sound mind”–

When the accused appears to be of sound mind at the time of inquiry or trial, and the Magistrate is satisfied from the evidence given before him that there is reason to believe that the accused committed an act, which, if he had been of sound mind, would have been an offence, and that he was, at the time when the act was committed, by reason of unsoundness of mind, incapable of knowing the nature of the act or that it was wrong or contrary to law, the Magistrate shall proceed with the case, and, if the accused ought to be tried by the Court of Session, commit him for trial before the Court of Session.

धारा 333 CrPC

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here