Home LAW धारा 303 CrPC | Section 303 CrPC in Hindi | CrPC Section...

धारा 303 CrPC | Section 303 CrPC in Hindi | CrPC Section 303

1562
0
section 303 CrPC in Hindi

आज के इस आर्टिकल में मै आपको “ जिस व्यक्ति के विरुद्ध कार्यवाही संस्थित की गई है उसका प्रतिरक्षा कराने का अधिकार | दंड प्रक्रिया संहिता की धारा 303 क्या है | section 303 CrPC in Hindi | Section 303 in The Code Of Criminal Procedure | CrPC Section 303 | Right of person against whom proceedings are instituted to be defendedके विषय में बताने जा रहा हूँ आशा करता हूँ मेरा यह प्रयास आपको जरुर पसंद आएगा । तो चलिए जानते है की –

दंड प्रक्रिया संहिता की धारा 303 |  Section 303 in The Code Of Criminal Procedure

[ CrPC Sec. 303 in Hindi ] –

जिस व्यक्ति के विरुद्ध कार्यवाही संस्थित की गई है उसका प्रतिरक्षा कराने का अधिकार-

जो व्यक्ति दंड न्यायालय के समक्ष अपराध के लिए अभियुक्त है या जिसके विरुद्ध इस संहिता के अधीन कार्यवाही संस्थित की गई है, उसका यह अधिकार होगा कि उसकी पसंद के प्लीडर द्वारा उसकी प्रतिरक्षा की जाए।

धारा 303 CrPC

[ CrPC Sec. 303 in English ] –

“ Right of person against whom proceedings are instituted to be defended ”–

 Any person accused of an offence before a Criminal Court, or against whom proceedings are instituted under this Code, may of right be defended by a pleader of his choice.

धारा 303 CrPC

  •  Mp rashtriy udhan part 1

    BUY

     

    BUY

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here